DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  ऊर्जा क्रांति 2040ः बीस साल बाद कैसा होगा ऊर्जा का स्वरूप, बताएंगे आईआईटीयन

झारखंडऊर्जा क्रांति 2040ः बीस साल बाद कैसा होगा ऊर्जा का स्वरूप, बताएंगे आईआईटीयन

धनबाद मुख्य संवाददाताPublished By: Yogesh Yadav
Fri, 11 Jun 2021 11:27 PM
ऊर्जा क्रांति 2040ः बीस साल बाद कैसा होगा ऊर्जा का स्वरूप, बताएंगे आईआईटीयन

आईआईटीयन बताएंगे कि वर्ष 2040 में ऊर्जा का स्वरूप कैसा होगा‌? क्या आनेवाले वर्षों में देशवासी सोलर एनर्जी, विंड एनर्जी या किसी अन्य ऊर्जा स्वरूप पर आश्रित होंगे या तेल अथवा गैस क्षेत्र पर ही ऊर्जा की मांग व आपूर्ति के लिए निर्भर रहेंगे। आईआईटी आईएसएम धनबाद के छात्रों की संस्था सोसाइटी ऑफ पेट्रोलियम इंजीनियर्स (एसपीई) आईएसएम चैप्टर की ओर से एनर्जी रिवोल्यूशन (ऊर्जा क्रांति) 2040 प्रतियोगिता की घोषणा की गई है। 

आईआईटी धनबाद के प्रथम वर्ष इंजीनियरिंग छात्रों के अलावे देश के अन्य पेट्रोलियम इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राएं भी भाग लेंगे। रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। 19 जून तक रजिस्ट्रेशन के बाद 20 जून को प्रतियोगिता का आयोजन होगा। छात्र-छात्राएं इस प्रतियोगिता में ऊर्जा क्षेत्र का भविष्य के साथ अपनी रचनात्मकता भी सामने रखेंगे। 

एसपीई आईआईटी धनबाद स्टूडेंट चैप्टर से जुड़े छात्र राजकुमार का कहना है कि हमलोगों ने भविष्य में ऊर्जा स्रोत को ले प्रथम वर्ष के छात्रों को चुनौती दी है। दुनिया भर में भविष्य की ऊर्जा की खोज, मंथन या उसके विकल्प पर चर्चा शुरू हो गई है। एसपीई आयोजित यह प्रतियोगिता छात्रों को प्रोत्साहन के साथ ही बेहतर मंच भी प्रदान करेगा। एक टीम में तीन से चार छात्र-छात्राएं शामिल हो सकते हैं।

उनमें से दो सदस्य पेट्रोलियम छोड़ कर दूसरी ब्रांच के होने चाहिए। छात्रों को अपनी मौलिक सोच के साथ डेटा का भी विष्लेषण करना होगा। आठ मिनट में अधिकतम 15 स्लाइड के माध्यम से प्रजेंटेशन करना है। विशेषज्ञ पांच मिनट का प्रश्न भी पूछ सकते हैं। उम्मीद है कि भविष्य के ऊर्जा स्रोत के लिए यूनिक आइडिया के साथ छात्र आएंगे। प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राएं इस चुनौती को स्वीकार करते हुए हिस्सा लें।

संबंधित खबरें