ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडझारखंड में अपनी बहुमत वाली सरकार, इसे लूटने नहीं देंगे, राज्यपाल के बयान पर बिफरी कांग्रेस

झारखंड में अपनी बहुमत वाली सरकार, इसे लूटने नहीं देंगे, राज्यपाल के बयान पर बिफरी कांग्रेस

झारखंड में राष्ट्रपति शासन को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है। इस बीच झारखंड कांग्रेस प्रमुख राजेश ठाकुर का कहना है कि सूबे में अपनी बहुमत की सरकार है, हम इसे लूटने नहीं देंगे। पढ़ें यह रिपोर्ट...

झारखंड में अपनी बहुमत वाली सरकार, इसे लूटने नहीं देंगे, राज्यपाल के बयान पर बिफरी कांग्रेस
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,रांचीMon, 29 Jan 2024 09:19 PM
ऐप पर पढ़ें

झारखंड की सियासत बेहद गर्म है। ईडी की एक टीम कथित जमीन घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के सिलसिले में सोमवार को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के दिल्ली स्थित आवास पर पहुंच गई। इसके बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा ने बयान जारी कर कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन 31 जनवरी को रांची में मौजूद रहेंगे और ईडी को जो जानकारी चाहिए उसे उपलब्ध कराने में सहयोग करेंगे। इस बीच सूबे में राष्ट्रपति शासन को लेकर अटकलों का बाजार गर्म हो गया। हालांकि झारखंड के राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने अटकलों को खारिज कर दिया और कहा कि वह स्थिति पर पैनी नजर बनाए हुए हैं और जरूरत पड़ी तो ब्रिज क्रास करेंगे।  

अब राज्यपाल के इस बयान पर कांग्रेस आगबबूला है। झारखंड कांग्रेस प्रमुख राजेश ठाकुर ने राज्यपाल की टिप्पणी की निंदा की और कहा कि यह धारणा बनाने की कोशिश की जा रही है कि झारखंड में राष्ट्रपति शासन लगाया जाएगा। यह गलत है। राज्यपाल संवैधानिक पद पर बैठे हैं और उन्हें ऐसे बयान नहीं देने चाहिए। संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को राजनीति से दूर रहना चाहिए। राजेश ठाकुर यहीं नहीं रुके उन्होंने चेतावनी देने वाले लहजे में यह भी कहा कि किसी को भ्रम में नहीं रहना चाहिए, जरूरत पड़ी तो हम भी ब्रिज क्रास करेंगे। झारखंड में हमारी बहुमत की सरकार है, हम इसे लूटने नहीं देंगे।

दरअसल राज्यपाल से जब संवाददाताओं ने सीएम सोरेन को ईडी के समन पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि जांच करना ईडी का कर्तव्य है। मैं व्यक्तिगत रूप से महसूस करता हूं कि पार्टी (झामुमो) को इसमें शामिल नहीं होना चाहिए। इससे अनावश्यक तनाव पैदा हो रहा है। कोई भी कानून से ऊपर नहीं है। मैं संविधान के संरक्षक के रूप में समग्र स्थिति पर नजर रख रहा हूं। यह राज्यपाल का काम है, जो मैं कर रहा हूं। जब समय आएगा तो कानून के मुताबिक कदम उठाएंगे। साथ ही राज्यपाल ने राज्य में राष्ट्रपति शासन की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि यह केवल अनुमान है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें