ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडहेमंत सोरेन का जमीन घोटाले के मुख्य आरोपी प्रसाद से आमना-सामना, क्या जानना चाह रही ईडी?

हेमंत सोरेन का जमीन घोटाले के मुख्य आरोपी प्रसाद से आमना-सामना, क्या जानना चाह रही ईडी?

ईडी ने मंगलवार को हेमंत सोरेन का सामना जमीन घोटाले के मुख्य आरोपी 'बार्गेन' सर्किल के राजस्व उप-निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद से कराया। आखिर क्या जानना चाह रही केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी?

हेमंत सोरेन का जमीन घोटाले के मुख्य आरोपी प्रसाद से आमना-सामना, क्या जानना चाह रही ईडी?
Krishna Singhराज कुमार,रांचीWed, 07 Feb 2024 01:04 AM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी ने मंगलवार को जमीन घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का 'बार्गेन' सर्किल के राजस्व उप-निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद से आमना-सामना कराया। ईडी के सूत्रों ने बताया कि एजेंसी के अधिकारियों ने हेमंत सोरेन से 'बार्गेन' सर्किल के राजस्व उप-निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद की मौजूदगी में पूछताछ की ताकि पता लगाया जा सके कि इस खेल में कितना पैसा शामिल था और अवैध व्यवसाय से अर्जित धन की कैसे लूट की गई थी। प्रसाद इस मामले में मुख्य आरोपी हैं।

ईडी के सूत्रों ने बताया कि प्रसाद के अलावा, निजी भूमि सर्वेक्षक शसेंद्र महतो को भी पूछताछ के दौरान ईडी कार्यालय में बुलाया गया था। , निजी भूमि सर्वेक्षक शसेंद्र महतो ने राजस्व उप-निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद के निर्देश पर सामुदायिक भूमि की माप की थी। पीएमएलए अदालत ने पूछताछ के लिए ईडी को प्रसाद की चार दिन की रिमांड दी है। रिमांड अवधि आज शुरू हो गई। ईडी के अधिकारी जरूरी कागजी कार्रवाई पूरी करने के बाद प्रसाद को रांची जेल से अपने साथ ले गए।

अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि ईडी ने क्या सवाल पूछे और हेमंत सोरेन ने इन सवालों के क्या जवाब दिए हैं। ईडी के करीबी सूत्रों ने बताया कि जांच एजेंसी प्रसाद और सोरेन के साथ जांच और क्रॉस चेकिंग के बाद दस्तावेजों के सत्यापन का काम पूरा करेगी। इस बीच, ईडी के एक अन्य सूत्र ने कहा कि गिरफ्तारी को चुनौती देने के लिए हेमंत सोरेन द्वारा 1 फरवरी को रांची पीएमएलए अदालत में प्रस्तुत किए गए दस्तावेज एजेंसी की जांच के दायरे में आ गए हैं। इनकी स्कैनिंग के बाद ईडी अधिक सतर्क हो गई है।

ईडी ने नोट किया है कि पिछले साल 14 अगस्त को हेमंत सोरेन को पहला समन जारी करने के दो दिन बाद उन्हें जांच के तहत पूछताछ के लिए उपस्थित होने का निर्देश दिया गया था। वहीं जमीन मालिकों ने भूमि के स्वामित्व का दावा करते हुए राजस्व विभाग के समक्ष एक याचिका दायर की। इस साल 29 जनवरी को जब ईडी ने सोरेन के दिल्ली परिसर पर छापा मारा तो भूमि और राजस्व विभाग ने तुरंत जमाबंदी रद्द कर दी और जमीन का स्वामित्व उसके मालिकों को बहाल कर दिया। ईडी सूत्रों ने कहा- ईडी ने अब यह जांच कर रही है कि क्या सोरेन (जिनके पास भूमि एवं राजस्व विभाग था) की इसमें कोई भूमिका है या नहीं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें