ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड10 जून तक जवाब दे ईडी; हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर क्या बोला HC

10 जून तक जवाब दे ईडी; हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर क्या बोला HC

पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर आज हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के वकील को 10 जून से पहले हलफनामा दाखिल करने को कहा है।

10 जून तक जवाब दे ईडी; हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर क्या बोला HC
Devesh Mishraपीटीआई,रांचीTue, 28 May 2024 12:23 PM
ऐप पर पढ़ें

कथित जमीन घोटाले में जेल में बंद पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सुप्रीम कोर्ट से झटका मिलने के बाद झारखंड हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। पूर्व सीएम ने सोमवार को जमानत के लिए याचिका दायर की और हाईकोर्ट से तत्काल सुनवाई की मांग की। इस मामले में मंगलवार को कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के वकील को 10 जून से पहले हलफनामा दाखिल करने को कहा है।

अब 10 जून को होगी सुनवाई
न्यायमूर्ति रोंगोन मुखोपाध्याय की बेंच के समक्ष हेमंत सोरेन की ओर से पेश हुए सीनियर वकील कपिल सिब्बल ने दलील दी कि झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के नेता सोरेन राजनीतिक साजिश का शिकार हैं। अदालत ने ईडी को मामले में जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया और अगली सुनवाई 10 जून के लिए निर्धारित कर दी। 

सोरेन ने क्या दी दलील
हेमंत सोरेन ने अदालत के समक्ष दलील दी कि बार्गेन इलाके में 8.5 एकड़ जमीन के किसी भी दस्तावेज में उनका नाम नहीं है और उनके खिलाफ धन शोधन निवारण अधिनियम के तहत कोई अपराध नहीं बनता है। उन्होंने यह भी दावा किया कि ईडी केवल कुछ लोगों के बयानों पर भरोसा कर रहा है जिन्होंने कहा था कि भूमि का टुकड़ा उनका है, लेकिन ऐसे बयानों के समर्थन में कोई दस्तावेज नहीं था। 

सुप्रीम कोर्ट से वापस ली थी याचिका
अब इस मामले की विस्तृत सुनवाई 10 जून को निर्धारित की गई है। दरअसल, ईडी ने कथित भूमि घोटाले से जुड़े धन शोधन के मामले में हेमंत सोरेन को 31 जनवरी को गिरफ्तार किया था। सोरेन ने सोमवार को उच्च न्यायालय के समक्ष याचिका दाखिल कर मामले में शीघ्र सुनवाई करने का अनुरोध किया था। हेमंत सोरेन ने देश की सबसे बड़ी अदालत से भी जमानत की मांग की थी। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया। इसके बाद पूर्व सीएम ने अपनी याचिका वापस ले ली।