ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडधनबाद मेडिकल कॉलेज में रैगिंग, कपडे को लेकर MBBS स्टूडेंट के साथ टार्चर; केस दर्ज

धनबाद मेडिकल कॉलेज में रैगिंग, कपडे को लेकर MBBS स्टूडेंट के साथ टार्चर; केस दर्ज

धनबाद मेडिकल कॉलेज एसएनएमएमसी में एक बार फिर रैगिंग की शिकायत हुई है। प्रथम वर्ष के एक छात्र ने नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) के एंटी रैगिंग सेल को इसकी शिकायत मेल भेजकर की है।

धनबाद मेडिकल कॉलेज में रैगिंग, कपडे को लेकर MBBS स्टूडेंट के साथ टार्चर; केस दर्ज
Abhishek Mishraहिन्दुस्तान,धनबादSun, 28 Jan 2024 10:22 AM
ऐप पर पढ़ें

धनबाद मेडिकल कॉलेज एसएनएमएमसी में एक बार फिर रैगिंग की शिकायत हुई है। प्रथम वर्ष के एक छात्र ने नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) के एंटी रैगिंग सेल को इसकी शिकायत मेल भेजकर की है। इस शिकायत पर डीसी के निर्देश पर मेडिकल कॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी ने छुट्टी के दिन शुक्रवार को मामले की जांच की। हालांकि इस जांच में रैंगिंग की पुष्टि नहीं हुई है। कमेटी की रिपोर्ट एनएमसी की एंटी रैगिंग सेल, यूजीसी और डीसी को भेज दी गई है।

जानकारी के साथ शिकायर्ता छात्र ने एक सीनियर छात्र और छात्रा पर मेडिकल कॉलेज में जूनियर छात्र को ड्रेस कोड के लिए दवाब बनाने और मानसिक व शरीरिक रूप से प्रताड़ित करने की शिकायत एनएमसी की एंटी रैगिंग सेल को की थी। इस शिकायत पर एनएमसी ने डीसी वरुण रंजन को मामले की जानकारी दी। डीसी ने त्वरित कार्रवाई करते हुए मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को तत्काल मामले की जांच कर रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया। डीसी के निर्देश पर प्राचार्य डॉ ज्योति रंजन प्रसाद की अध्यक्षता में शुक्रवार को गणतंत्र दिवस की छुट्टी होने के बावजूद दोपहर में कमेटी की बैठक बुलाई गई। इसमें आरोपी छात्र और छात्रा से पूछताछ की गई।

दोनों ने रैगिंग की घटना की सूचना होने, उनके खिलाफ किसी प्रकार की शिकायत की जानकारी और रैगिंग की किसी प्रकार की घटना में संलिप्त होने से इंकार किया है। आरोपी छात्र और छात्रा के पूरे बैच से इस मामले में पूछताछ की गई। साथ ही जूनियर बैच के भी सभी छात्रों से एक-एक कमेटी ने पूछताछ की। सभी ने रैगिंग की घटना से इंकार किया है।

रैगिंग की घटना की शिकायत एनएमसी को की गई थी। कॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी ने पूरे मामले की पड़ताल की। सभी छात्रों से पूछताछ की गई। किसी ने ऐसे किसी घटना के बारे में कुछ नहीं बताया। सभी ने इंकार किया है। इसकी रिपोर्ट भेज दी गई है।

-डॉ ज्योति रंजन प्रसादप्राचार्य, एसएनएमएमसी

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें