DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › धनबाद में जज की मौत हादसा थी या हत्या ? छह मोबाइल के सीडीआर में सुराग तलाश रही झारखंड पुलिस
झारखंड

धनबाद में जज की मौत हादसा थी या हत्या ? छह मोबाइल के सीडीआर में सुराग तलाश रही झारखंड पुलिस

मुख्‍य संवाददाता ,धनबाद Published By: Ajay Singh
Fri, 30 Jul 2021 10:40 AM
धनबाद में जज की मौत हादसा थी या हत्या ? छह मोबाइल के सीडीआर में सुराग तलाश रही झारखंड पुलिस

एडीजे-8 उत्तम आनंद की मौत मामले का सच सामने लाने के लिए धनबाद पुलिस की कई टीमें अलग-अलग काम कर रही हैं। गिरफ्तार आरोपी लखन वर्मा और राहुल वर्मा के मोबाइल नंबर का स्कैन किया जा रहा है। दोनों के मोबाइल जब्त किए गए हैं। लखन और राहुल से जुड़े आधा दर्जन मोबाइल नंबरों का कॉल डिटेल्स रिपोर्ट खंगाला जा रहा है। तकनीकी साक्ष्य जुटाने के लिए धनबाद एसएसपी संजीव कुमार ने सिटी एसपी आर रामकुमार और एएसपी मनोज स्वर्गियारी की अगुवाई में कई टीमें बनाई हैं।

लखन और राहुल से गुरुवार को एसएसपी सहित अन्य पदाधिकारियों ने कई दौर में पूछताछ की। उनके मोबाइल लोकेशन से पता लगाया जा रहा है कि पिछले 10-15 दिनों में दोनों कहां-कहां गए, किन-किन लोगों से मिले, उनके नंबरों पर किन-किन नंबरों से कॉल आए, उन्होंने किस-किस को फोन किए। किससे क्या-क्या बातें हुईं जैसी तमाम जानकारियां जुटाई जा रही हैं। दोनों आरोपियों के घरवालों के नंबरों का भी सीडीआर खंगाला जा रहा है। दोनों कब-कब जेल गए। जेल में उनकी नजदीकी कौन-कौन बंदी थे।

टक्कर का गिरिडीह कनेक्शन खंगाल रही पुलिस
गिरिडीह में मृतक एडीजे-8 का पैतृक घर है। पुलिस पता लगा रही है कि लखन ऑटो लेकर गिरिडीह ही क्यों गया। इस बात की भी तफ्तीश की जा रही है कि घटना के पीछे गिरिडीह का तो कोई कनेक्शन नहीं। गिरिडीह में मृतक या उनके परिवार की किसी से दुश्मनी तो नहीं। संपत्ति को लेकर तो किसी से विवाद नहीं चल रहा था। गिरिडीह में लखन ने अपने बहनोई के अलावा और किस-किस से संपर्क किया था।

फोरेंसिक टीम ने घटना स्थल से जुटाए साक्ष्य
रांची से पहुंची फोरेंसिक टीम ने कोर्ट मोड़ रणधीर वर्मा चौक पर स्थित घटना स्थल से कई तकनीकी साक्ष्य जुटाए। ऑटो से टक्कर के बाद जज जिस जगह पर गिरे थे उस जगह के आसपास गाड़ी का टूटा हुआ इंडिकेटर का अंश सैंपल के रूप में लिया गया। टीम घंटों जब्त ऑटो से भी सैंपल लेते रही। ऑटो का बायां इंडिकेटर टूटा हुआ था। माना जा रहा है कि टक्कर से इंडिकेटर टूटा होगा। ऑटो की सीट से भी कई सैंपल एकत्रित किए गए। सीआईडी की चार सदस्यीय टीम ने भी घटना स्थल के साथ-साथ जब्त ऑटो की जांच की।

आज एसआईटी शुरू कर सकती है जांच
बताया जा रहा है कि शुक्रवार से एसआईटी जज की मौत मामले की जांच शुरू कर सकती है। जिला पुलिस, सीआईडी, स्पेशल ब्रांच और फोरंसिक की टीमों ने जो भी साक्ष्य जुटाए हैं उन साक्ष्यों को एसआईटी को सौंपा जाएगा। जांच टीमें हर छोटे से बड़े बिंदुओं पर तार्किक और वैज्ञानिक साक्ष्य जुटा कर एसआईडी को सौंपने की तैयारी में है।

संबंधित खबरें