ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडरोज 2 शिकार, हर महीने 60 हजार सैलरी; नाबालिगों से मोबाइल चोरी कराने वाले गैंग ने किए चौंकाने वाले खुलासे

रोज 2 शिकार, हर महीने 60 हजार सैलरी; नाबालिगों से मोबाइल चोरी कराने वाले गैंग ने किए चौंकाने वाले खुलासे

नाबालिगों का गैंग बनाकर उनसे मोबाइल चोरी कराने वाले गैंग ने पुलिस के सामने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। उन्होंने बताया है कि हर नाबालिग को रोजाना दो मोबाइल चोरी करने का टारगेट दिया जाता था।

रोज 2 शिकार, हर महीने 60 हजार सैलरी; नाबालिगों से मोबाइल चोरी कराने वाले गैंग ने किए चौंकाने वाले खुलासे
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,रांचीFri, 21 Jun 2024 09:37 AM
ऐप पर पढ़ें

रांची के रातू थाने की पुलिस ने साहेबगंज के तीन पहाड़ के मोबाइल चोर गिरोह के सदस्यों को गिरफ्तार कर गुरुवार को जेल भेज भेज दिया है। जेल भेजने से पहले हुई पूछताछ में पुलिस चौकाने वाले तत्थ सामने आए हैं। पुलिस को पता चला है कि गिरोह में शामिल हर नाबालिग चोर को प्रतिदिन न्यूनतम दो मोबाइल की चोरी करने का टारगेट दिया गया था। टारगेट से अधिक चोरी करने वाले नाबालिगों को अलग से कमीशन दिया जाता था। 

गिरोह में शामिल प्रति नाबालिग चोरों को मोबाइल चोरी के एवज में 30 से 60 हजार रुपए हर माह बतौर वेतन मिलता है। इसमें वैसे नाबालिग भी शामिल हैं, जो मोबाइल चोरी करना सीख रहे हैं। उन्हें 30 हजार दिया जाता था। वहीं, अनुभवी लोगों को 50 से 60 हजार रुपए प्रति माह वेतन दिया जाता है। यह राशि गिरोह का सरगना उन्हें देता है। उन बच्चों को चोरी करने ले जाने से पहले उनके परिवार के सदस्यों को भी 10 से 20 हजार रुपए गिरोह के सदस्य देते हैं। 

पुलिस को पता चला है कि साहेबगंज में इस गिरोह का सरगना है, जिसकी तलाश में पुलिस की टीम जल्द ही साहेबगंज जाएगी। बता दें कि रातू थाने की पुलिस ने मंगलवार को नाबालिग समेत सात मोबाइल चोरों को गिरफ्तार किया था। उनके पास से चोरी के 79 मोबाइल बरामद किया गया था।

पकड़ाने पर भीड़ से छुड़ाने जाते थे गिरोह के लोग

तीन पहाड़ के मोबाइल चोर गिरोह पूरी प्लानिंग के साथ चोरी की वारदात को अंजाम दिया करते हैं। जब वह नाबालिग चोरों को शहर के भीड़-भाड़ वाले बाजार में भेजते हैं तो गिरोह के बालिग सदस्य उनके साथ खुद जाते हैं। अगर मोबाइल चोरी करते हुए पकड़ा जाते थे तो गिरोह के लोग भी पीटते थे। इसके बाद मौका देखकर उन्हें भीड़ से छुड़ाकर भगा देते हैं। पूछताछ में गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस के समक्ष इस बात का खुलासा किया है। एसएसपी ने बताया कि पुलिस के अनुसार तीन पहाड़ गैंग के चोरों का गिरोह दस दिन पहले ही रांची पहुंचा था। रातू थाना क्षेत्र के कमड़े में गिरोह के सदस्यों ने भाड़े पर कमरा लिया है।

Advertisement