DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  झारखंड: कोविशिल्ड का पहला डोज लेते ही रिटायर रेलकर्मी के लिए मुसीबत बने स्टील के बर्तन, जानें वजह
झारखंड

झारखंड: कोविशिल्ड का पहला डोज लेते ही रिटायर रेलकर्मी के लिए मुसीबत बने स्टील के बर्तन, जानें वजह

संवाददाता,जमशेदपुरPublished By: Sneha Baluni
Wed, 16 Jun 2021 08:59 AM
झारखंड: कोविशिल्ड का पहला डोज लेते ही रिटायर रेलकर्मी के लिए मुसीबत बने स्टील के बर्तन, जानें वजह

जमशेदपुर के परसूडीह हलुदबनी निवासी 70 वर्षीय रिटायर रेलकर्मी अभिमन्यु प्रसाद श्रीवास्तव परेशान हैं। उनकी परेशानी की वजह शरीर में स्टील के बर्तन का सटना है। श्रीवास्तव ने मंगलवार दोपहर को टाटानगर रेलवे संस्थान में कोविशिल्ड का पहला डोज लिया था। इसके बाद शरीर में स्टील का बर्तन सटने की समस्या हुई है। यह आसपास चर्चा का विषय बना हुआ है।

बदन दर्द की खाई थी दवा
रिटायर रेलकर्मी के अनुसार, वैक्सीन लेकर घर लौटेने पर उनके शरीर में दर्द होने लगा था। पैरासिटामोल दवा की एक गोली खाई थी, इसके बाद चम्मच से खाने के दौरान शरीर में स्टील का चम्मच सटने का अहसास हुआ। बाद में उन्होंने बर्तन व ब्लेड को शरीर से सटाकर देखा तो वह भी चिपक रहा था। 

हल्दी दूध पीने के बाद तबीयत ठीक हो गई लेकिन चम्मच चिपकने की समस्या कायम है। उन्होंने इसकी सूचना सिविल सर्जन डॉ. एके लाल को भी फोन किया था। उन्होंने सदर अस्पताल में भर्ती होने का सुझाव देकर एंबुलेंस भी भेजी थी लेकिन तबीयत खराब होने के कारण उन्होंने अस्पताल जाने से इनकार कर दिया। 

सिविल सर्जन डॉ. एके लाल ने कहा, 'मीडिया से ही मुझे इस बात की जानकारी मिली है अब देखना होगा। हालांकि मुजे लगता है वैक्सीन से इसका कोई संपर्क नहीं हो सकता। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है।'

संबंधित खबरें