DA Image
6 अगस्त, 2020|6:33|IST

अगली स्टोरी

आईपीएस तबादले से कांग्रेस कोटे के मंत्री नाराज

राज्य में आईपीएस अधिकारियों के तबादले से कांग्रेस कोटे के मंत्रियों में नाराजगी है।  इसको लेकर कृषि मंत्री बादल के सभाकक्ष में कांग्रेस कोटे के चारों मंत्रियों की गुरुवार को बैठक हुई। बैठक के बाद सभी मंत्री मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मिलकर अपनी बात रखने प्रोजेक्ट भवन गए, लेकिन मुलाकात नहीं हो सकी।
कांग्रेस कोटे के चारों मंत्रियों की बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि राज्य सरकार में हमारी बात नहीं सुनी जा रही है। यह गठबंधन की सरकार है और जो भी निर्णय होना चाहिए वह सामूहिकता के साथ होना चाहिए। तबादले से कोई नाराजगी नहीं है लेकिन जो भी फैसला हो आपसी सहमति से होना चाहिए। बैठक में 50 लाख  रुपए से ऊपर का टेंडर पूर्व की भांति विभागों को ही देने का  प्रस्ताव तैयार किया गया। साथ ही, कहा गया कि हर विभाग के सचिवों को पांच करोड़ की योजना तय कराने का अधिकार है वह अधिकार मंत्रियों को दिया जाए। चारों मंत्री  इन मामलों को लेकर मुख्यमंत्री से सोमवार या इससे पहले मिल सकते हैं।
प्रवासी मजदूरी की वापसी पर भी हुई चर्चा
बैठक के बाद कृषि मंत्री बादल ने बताया कि प्रवासी मजदूरों व छात्रों को लाने की व्यवस्था , कोरोना टेस्टिंग को बढ़ाने, प्रत्येक मुखिया को दिए गए रुपए से  मास्क व सेनेटाइजर खरीद कर लोगों को उपलब्ध  कराने पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि दो महीने का चावल और दाल जो जिलों को उपलब्ध कराए गए हैं उसका आवंटन जल्द लाभुकों तक पहुंचाने की व्यवस्था करने  को कहा गया है। मदरसा कर्मियों के वेतन भुगतान व अनुदान पर भी चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि मत्स्य पालन, बकरी पालन, डेयरी, सहकारिता को दूरदर्शी सोच के साथ लागू करना होगा।  छोटे-छोटे दुकानदार व लघु उद्योगों से जुड़े कर्मियों की अवस्था के बारे में भी गंभीरता से विचार-विमर्श किया गया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Congress quota minister angry over IPS transfer