DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › ओलंपिक में गए खिलाड़ियों के परिजनों का सीएम सोरेन ने किया सम्मान, कई सौगातों की घोषणा
झारखंड

ओलंपिक में गए खिलाड़ियों के परिजनों का सीएम सोरेन ने किया सम्मान, कई सौगातों की घोषणा

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरोPublished By: Yogesh Yadav
Tue, 03 Aug 2021 09:41 PM
ओलंपिक में गए खिलाड़ियों के परिजनों का सीएम सोरेन ने किया सम्मान, कई सौगातों की घोषणा

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि खेल में राज्य और देश का नाम रोशन करने वाली बच्चियों के परिवार-परिवेश को उन्होंने जाना-समझा तो मालूम हुआ कि यह उपलब्धि हासिल करना आसान नहीं है। पढ़ लिख कर डॉक्टर, इंजीनियर, आईएएस और आईपीएस बनने से कहीं बड़ी उपलब्धि खेल की दुनिया में देश का नाम रोशन करना है। ये खिलाड़ी ऐसे गांव से आते हैं जहां बिजली नहीं और जहां जीवनयापन के लिए रोज नई चुनौती है। परिवार की चुनौतियों का पहाड़ सिर पर रहने के बावजूद दुनिया में देश का नाम रोशन करना गौरव की बात है। 
 मुख्यमंत्री मंगलवार को प्रोजेक्ट भवन में खिलाड़ियों को नियुक्ति पत्र और टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर रहे खिलाड़ियों को सम्मान राशि प्रदान करने के लिए आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि ओलंपिक से लौटने के बाद राज्य के खिलाड़ियों को कई सौगात दी जाएगी। 

मुख्यमंत्री ने टोक्यो ओलंपिक में भाग ले रहीं तीरंदाज दीपिका कुमारी और हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान तथा सलिमा टेटे को पांच-पांच लाख की सम्मान राशि प्रदान की। इन खिलाड़ियों के टोक्यों में होने की वजह से इनके परिजनों ने सम्मान राशि ग्रहण की। इसके अलावा पैरा ओलंपिक के बोकिया खेल में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले अजय राज को विशेष प्रोत्साहन राशि के रूप में तीन लाख रुपये दिए गए। साथ ही 12 खिलाड़ियों को गृह विभाग में नियुक्ति पत्र प्रदान किया। 

ओलंपिक से लौटने पर मिलेंगे कई सौगात 

रांची। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर रहे खिलाड़ियों को सम्मान राशि प्रदान करने के दौरान ऐलान किया कि खिलाड़ियों को ओलंपिक से लौटने के बाद उन्हें कई सौगातें मिलेंगी। ताकि वे भविष्य में वे और भी बेहतर  कर राज्य और देश का मान बढ़ायें। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि टोक्यो ओलंपिक में शामिल इन खिलाड़ियों को सरकार आईकॉन बनाएगी, ताकि अन्य खिलाड़ियों को प्रेरणा मिल सके। मुख्यमंत्री ने टोक्यो ओलंपिक में महिला हॉकी टीम के पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस टीम में झारखंड की दो बच्चियां अपना बेहतरीन प्रदर्शन कर रही हैं। उन्होंने टीम को सेमीफाइनल में अर्जेन्टीना के खिलाफ जीत के लिए शुभकामनायें दी।

महिलाओं की अधिक भागीदारी से गर्व 

मुख्यमंत्री ने कहा कि विषम परिस्थितियों और सीमित संसाधनों के बावजूद विश्व पटल पर कामयाबी हासिल करने वाले खिलाड़ियों ने उनके लिए काम करने और योजना बनाने के लिए बाध्य किया है। तमाम चुनौतियों के बीच खिलाड़ी लगातार अपनी प्रतिभा निखारते हुए अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना रहे हैं। खासकर यहां की महिलायें और बच्चियां जिस तरह खेलों में सीमित संसाधनों के बीच अपना, राज्य और देश का नाम रौशन कर रही हैं, यह हम सभी के लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि झारखंड खेलों में लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहा है और आने वाले दिनों में यह राज्य खेलों में एक अग्रणी राज्य बनेगा।

खिलाड़ियों को बढ़ावा दे रही सरकार 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी और अन्य चुनौतियों के बीच खेल और खिलाड़ियों को बढ़ावा देने की दिशा में खेल विभाग लगातार सक्रिय है। इस दिशा में राज्य गठन के बाद पहली बार खेल पदाधिकारियों की नियुक्ति की गई। इसके अलावा खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति की जा रही है। उन्हें बेहतर प्रदर्शन लिए पुरस्कृत किया जा रहा है। इसके अलावा पंचायतों में खेल मैदान, एस्ट्रो टर्फ स्टेडियम और फुटबॉल मैदान विकसित किए जा रहे हैं। 

खिलाड़ी बस खेलेंगे

मुख्यमंत्री ने खिलाड़ियों को नियुक्ति पत्र प्रदान करने के बाद कहा कि वह यह नहीं समझे कि उनका दायित्व अब कुछ और होगा। वे पुलिस विभाग में नौकरी करेंगे, लेकिन वे पूरी तरह खेलों से ही जुड़े रहेंगे। यह तो सिर्फ खिलाड़ियों को व्यवस्था से जोड़े रखने का माध्यम है, ताकि उन्हें रोजगार की चिंता नहीं हो। मुख्यमंत्री ने विशेष तौर पर कहा कि सीधी नियुक्ति पाने वाले खिलाड़ी बेफ्रिक होकर खेलें। खेलों में आप अपना जौहर दिखायें, सरकार आपका पूरा ध्यान रखेगी। 

इन्हें मिला नियुक्ति पत्र 

लॉन बॉल की खिलाड़ी फरजाना खान, सरिता तिर्की, दिनेश कुमार, लवली चौबे और कृष्णा खलखो, साइकिलिंग खिलाड़ी लखन हांसदा, कराटे खिलाड़ी विजय कुमार और वुशु खिलाड़ी विप्लव कुमार झा को आरक्षी पद के लिए नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया, वहीं तीरंदाज मधुमिता कुमारी,  रीतेश आनंद और भाग्यवती चानू को पुलिस अवर निरीक्षक के लिए नियुक्ति पत्र सौंपा गया। मधुमिता कुमारी की अनुपस्थिति में उनकी माता सुमन देवी को उनका नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया, जबकि रीतेश आनंद कुछ वजहों से उपस्थित नहीं हो सके।

इस मौके पर पर्यटन, कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य मंत्री हफीजुल हसन अंसारी, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव-सह-गृह विभाग के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, पुलिस महानिदेशक नीरज सिन्हा, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे और खेल विभाग की सचिव श्रीमती पूजा सिंघल मौजूद थीं। 

संबंधित खबरें