ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडसात साल में पूरी नहीं हुई सीएम स्मार्ट ग्राम योजना, अब मांगा 2024 कर समय

सात साल में पूरी नहीं हुई सीएम स्मार्ट ग्राम योजना, अब मांगा 2024 कर समय

पूर्वी सिंहभूम के डुमरिया प्रखंड के कांटाशोल ग्राम पंचायत को मुख्यमंत्री स्मार्ट ग्राम योजना के तहत चिह्नित किया गया था। विभाग द्वारा डीपीआर के अनुरूप स्वीकृत 87.70 लाख में से 41.57 लाख खर्च किया गया

सात साल में पूरी नहीं हुई सीएम स्मार्ट ग्राम योजना, अब मांगा 2024 कर समय
Aditi Sharmaहिंदुस्तान,जमशेदपुरFri, 01 Dec 2023 07:51 AM
ऐप पर पढ़ें

मुख्यमंत्री स्मार्ट ग्राम योजना सात साल में भी पूरी नहीं हो पाई। अब अफसरों ने मार्च 2024 तक का समय मांगा है, जबकि मुख्यमंत्री स्मार्ट ग्राम योजना मार्च 2022 में ही पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित था। पूर्वी सिंहभूम के डुमरिया प्रखंड के कांटाशोल ग्राम पंचायत को मुख्यमंत्री स्मार्ट ग्राम योजना के तहत चिह्नित किया गया था।

विभाग द्वारा डीपीआर के अनुरूप स्वीकृत 87.70 लाख रुपये में से 41.57 लाख खर्च किया गया है। योजना के अंतर्गत लंबित काम के लिए मार्च 2024 तक अवधि विस्तार देने की मांग की गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में तकनीक आधारित विकास की संभावनाओं को तलाशने के लिए वर्ष 2016 में मुख्यमंत्री स्मार्ट ग्राम योजना की शुरुआत की गई। इसमें तय किया गया था कि चयनित गांव सूचना तकनीक, अक्षय ऊर्जा, कृषि की उन्नत तकनीक और ई-गवर्नेंस पर आधारित होंगे।

यहां रहने वाले ग्रामीणों को आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी, ताकि उनका जीवन स्तर बेहतर हो सके। इसमें चयनित गांव को राज्य का मॉडल गांव बनाया जाएगा। सौर ऊर्जा से बिजली, इंटरनेट का बढ़ेगा कवरेज योजना के तहत चयनित गांवों में स्थापित प्रज्ञा केंद्र स्मार्ट बनाए जाएंगे। पंचायत सचिवालय में अधिकतर काम पेपरलेस होंगे। इसके लिए मोबाइल और इंटरनेट की बेहतर कनेक्टिविटी के लिए मोबाइल टॉवर की संख्या बढ़ाई जाएगी।

सड़क निर्माण तेज होगा लोकल कांट्रैक्टर को टेंडर प्रक्रिया में प्राथमिकता देने से कई लोग ग्रामीण सड़क योजना से जुड़ेंगे। इससे सड़क निर्माण में तेजी आएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें