DA Image
28 नवंबर, 2020|3:14|IST

अगली स्टोरी

CM हेमंत सोरेन ने लिया संज्ञान, दो घंटे में निलंबित हो गया पुलिस जवान

hemant soren  file pic

झारखंड के बोकारो जिला में पुलिसकर्मियों को तीन किशोरों को बेवजह पीटना महंगा पड़ गया। पांच घंटे के भीतर ही इस मामले की जांच हो गई और ढाई घंटे के अंदर आरोपी पुलिस का जवान (कॉन्सटेबल) निलंबित भी हो गया। अमूमन इतनी तेजी से कार्रवाई बहुत कम ही देखने को मिलती है। आम तौर पर ऐसी घटनाओं को छोटा मानकर प्रशासन इसे नजर अंदाज कर देता है। लेकिन, इस छोटी घटना पर भी झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने संज्ञान लिया और कार्रवाई हुई। एक पुलिस के अधिकारी ने इस मामले को लेकर से कहा कि बोकारो जिले के बारीडीह थाना में पदस्थापित पुलिस जवान सुखवंत सिंह को तीन लड़कों को बेवजह पीटने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है।

आरोप है कि पांडेयपुरा गांव के रहने वाले तीन किशोर रिशु हेंब्रम, रवि हेंब्रम और विशल मूर्मू रविवार को एक डैम से स्नान कर वापस घर आ रहे थे। इसी क्रम में अपने एक सहयोगी के साथ कॉन्सटेबल सुखवंत सिंह ने इन तीनों लड़कों को रुकने के लिए कहा, लेकिन किशोर नहीं रुके और आगे बढ़ गए। इसके बाद कॉन्सटेबल ने किशोरों को पकड़ा और उनकी जमकर पिटाई कर दी। इसके बाद रिशु ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के नेताओं से भी मुलाकात की।

ट्वीट कर की थी शिकायत

रिशु के बयान पर बालीडीह थाने में घटना की प्राथमिकी जरूर दर्ज कर ली गई, लेकिन कॉन्सटेबल पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। दूसरे दिन यानी सोमवार को सुबह 9.24 बजे तीर्थनाथ बिरसा नामक एक युवक ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ट्वीट कर दिया, जिसमें लिखा, 'बोकारो के बालीडीह थाना क्षेत्र के गरगा डैम में नहाने गए तीन नाबालिग आदिवासी लड़कों रिशु हेम्ब्रम, विशाल और रवि हेम्ब्रम को थाना के टाइगर मोबाइल के जवान सरदार सुखवंत सिंह और अन्य एक जवान ने आकर बिना कुछ बोले बेरहमी के साथ मारा।'

इसकी जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री के ट्विटर हैंडल से दोपहर 2.26 बजे ट्वीट किया गया, 'जिलाधिकारी मामले की पूरी जांच करें और अगर जवान दोषी पाया जाता है, तो कड़ी कार्रवाई कर सूचित करें।' इस मामले में बोकरो के उपायुक्त (जिलाधिकारी) मुकेश कुमार ने शाम 4.44 बजे ट्वीट कर बताया, 'इस मामले की जांच की गई, जिसमें संबंधित पुलिसकमीर् को दोषी पाया गया। इसलिए दोषी पुलिसकमीर् सुखवंत सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।' इधर, रिशु द्वारा दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि घुटने के बल बिठाकर उन तीनों को पीटा गया है।

मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद से ही हेमंत सोरेन ट्विटर पर काफी सक्रिय हैं। लोगों की समस्याओं के संज्ञान में आने के बाद उस पर कार्रवाई का अधिकारियों को निदेर्श भी दे रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CM Hemant Soren takes cognizance on twitter police personnel suspended in two hours