DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › सीएम हेमंत सोरेन ने लोगों से पांच-पांच फीट जमीन मांगी, जानिये क्या है पूरा मामला
झारखंड

सीएम हेमंत सोरेन ने लोगों से पांच-पांच फीट जमीन मांगी, जानिये क्या है पूरा मामला

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरोPublished By: Yogesh Yadav
Sat, 24 Jul 2021 12:12 AM
सीएम हेमंत सोरेन ने लोगों से पांच-पांच फीट जमीन मांगी, जानिये क्या है पूरा मामला

रांची शहर के सर्वांगीण विकास में सरकार के साथ आम लोगों की सहभागिता जरूरी है। लोग विकास योजनाओं के लिए अपनी एक इंच जमीन देने का राजी नहीं होते। ऐसे में विकास की गाड़ी कैसे आगे बढ़ेगी। गरीब ही नहीं संपन्न नागरिकों के मुहल्लों में भी संकरी गलियां-सड़कों से एंबुलेंस और फायर बिग्रेड तो दूर छोटे वाहनों का पहुंचना भी मुश्किल है। आपात स्थिति में मुसीबत और बढ़ जाएगी। ये बातें कहते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शहरों में संकरी सड़कों किनारे जमीन के हर मालिक से पांच-पांच फुट जमीन दान करने का आह्वान किया। ऐसे होने पर शहर का सौंदर्यीकरण अलग ही मुकाम पर पहुंचाया जा सकेगा।

उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को जयपाल सिंह मुंडा स्टेडियम में आयोजित रांची शहर के विभिन्न विकास परियोजनाओं के शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। सरकार की विकास योजनायें अनवरत चलती रहती हैं, लेकिन इन योजनाओं का पूरी तरह से लाभ तभी मिलेगा जब हम जागरूक होकर सरकार के उद्देश्यों को पूरा करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब लोग अपनी जमीन देंगे तो उनका सड़कों आदि पर अधिकार भी होगा। 

सीएम ने कहा कि रांची शहर में जनसंख्या का दबाव काफी तेजी से बढ़ा है। जनसंख्या के हिसाब से सड़कों पर गाड़ियां भी अधिक हो गई हैं। हल्की बरसात में सड़कों पर पानी बहने लगता है, हल्की तूफान से बिजली कट जाती है। रांची शहर के विकास कार्यों में तेजी के साथ-साथ हर पहलुओं पर पैनी नजर रखने की जरूरत है। हम सभी लोग एकजुट होकर ही विकास कार्यों को मूर्त रूप दे सकेंगे। समस्याओं का समाधान आपसी समन्वय और समझदारी दिखाकर करें तभी चीजें सुधरेंगी। 

खराब काम की शिकायत मिली तो मौके पर सस्पेंड होंगे संवेदक

मुख्यमंत्री ने कहा कि रांची के बीचो-बीच जयपाल सिंह मुंडा स्टेडियम एवं बड़ा तालाब का कायाकल्प कर आकर्षक रूप प्रदान करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। जो लोग बाहर से रांची आते हैं वे एक बार जरूर इन जगहों पर आकर्षित होकर घूमने जरूर पहुंचे इस सोच के साथ राज्य सरकार आगे बढ़ रही है। रांची शहर में विभिन्न विकास परियोजना का शिलान्यास आज 84 करोड़ रुपये की लागत से हो रहा है। उन्होंने कहा कि इन विकास परियोजनाओं की राशि का सही तरीके से उपयोग किया जाए तो यह राशि हजार करोड़ के बराबर हो सकती है। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट शब्दों में हिदायत दी है कि विकास परियोजनाओं में लापरवाही बरतने, गुणवत्ता की शिकायत मिलने पर किसी भी हाल में बक्शा नहीं जाएगा। दोषी पाए जाने पर मौके पर ही संवेदक को सस्पेंड कर करने की कार्रवाई की जाएगी।

राजधानी रांची का मेक ओवर

सीएम ने कहा कि रांची झारखंड की राजधानी है, राजधानी की छवि से पूरे राज्य की छवि बनती है। आज यहां 84 करोड़ की लागत से रांची शहर के सुंदरीकरण एवं सुदृढ़ीकरण के लिए विभिन्न विकास परियोजनाओं का शिलान्यास हो रहा है। हमारी सरकार की सोच है कि कोई भी विकास योजना लंबे समय के लिए होनी चाहिए जिसका लाभ सिर्फ हमें ही नहीं बल्कि आने वाली पीढ़ी को भी मिल सके। विकास का पैमाना पर्यावरण को नुकसान पहुंचाकर नहीं बल्कि पर्यावरण के साथ संतुलन बनाकर होना सुनिश्चित किया जाना चाहिए। 

पर्यावरण की हानि के बगैर हो विकास

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास योजनाओं का स्वरूप पर्यावरण के साथ समन्वय स्थापित कर तैयार करें। हमारे कारणों से उत्पन्न समस्याओं का समाधान भी हमें ही ढूंढना होगा। बेमौसम बारिश, बाढ़, तूफान, महामारी ये सब पर्यावरण दोहन का उदाहरण है। उन्होंने ने कहा कि आज से 25-30 साल पहले और अब के रांची के वातावरण में काफी अंतर साफ दिखता है। विभाग को शहर की खाली जमीनों पर हरियाली विकसित करने का निर्देश दिया गया है। सीएम ने कहा कि सिर्फ सरकार के प्रयासों से ही नहीं बल्कि आम लोगों को भी अपने वार्ड, गली-मोहल्लों में पौधारोपण करना चाहिए तभी स्वच्छ वातावरण और सुंदर शहर की परिकल्पना को प्राप्त कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उपहार में बुके की जगह पौधा दें तो यह वृक्ष बन कर कई पीढ़ियों के काम आ सकता है।  

छोटी-छोटी चीजों से बड़े बदलाव संभव

मुख्यमंत्री ने अपील करते हुए कहा कि रांची शहर के सुंदरीकरण एवं सुदृढ़ीकरण में सभी लोग अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। छोटी-छोटी चीजों का ख्याल रखकर ही बड़े बदलाव किए जा सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रतिबद्धता के साथ भविष्य का ख्याल रखते हुए लंबी कार्य योजना बनाने का काम कर रही है। 

संक्रमण काल में राज्यवासियों ने धैर्य का परिचय दिया

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के गरीब-गुरबा, मजदूर वर्ग के लोग हतोत्साहित न हो इस हेतु राज्य सरकार निरंतर प्रयासरत है। राज्यवासी एवं रांचीवासियों ने संक्रमण काल में धैर्य का परिचय दिया है। यहां के लोग इस हेतु धन्यवाद के पात्र हैं। सभी लोगों के सहयोग से संक्रमण काल में राज्य को विकट परिस्थिति से बचाया गया है। आने वाली चुनौतियों के लिए भी हमसबों को तैयार रहने की आवश्यकता है। इस अवसर पर रांची विधायक सीपी सिंह, हटिया विधायक नवीन जयसवाल एवं उपमहापौर रांची संजीव विजयवर्गीय ने संबोधित करते हुए अपनी-अपनी बातें रखीं। मौके पर नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे, नगर आयुक्त मुकेश कुमार सहित रांची के विभिन्न वार्ड पार्षद एवं अन्य उपस्थित रहे।

संबंधित खबरें