ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडचाइनीज निमोनिया को लेकर झारखंड में अलर्ट जारी, सरकारी अस्पतालों में मॉक ड्रिल जल्द; ये सावधानियां बरतें

चाइनीज निमोनिया को लेकर झारखंड में अलर्ट जारी, सरकारी अस्पतालों में मॉक ड्रिल जल्द; ये सावधानियां बरतें

चाइनीज निमोनिया को लेकर रांची के सरकारी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया है। सिविल सर्जन डॉ प्रभात कुमार ने अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

चाइनीज निमोनिया को लेकर झारखंड में अलर्ट जारी, सरकारी अस्पतालों में मॉक ड्रिल जल्द; ये सावधानियां बरतें
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,रांचीWed, 29 Nov 2023 11:19 AM
ऐप पर पढ़ें

रांची जिला के सरकारी अस्पतालों को चाइनीज निमोनिया को लेकर अलर्ट कर दिया गया है। सिविल सर्जन डॉ प्रभात कुमार ने अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। बताया कि जिन अस्पतालों में पीएसए प्लांट नहीं हैं, वहां ऑक्सीजन कंसंट्रेटर चल रहा है या नहीं, इसकी जानकारी देने को कहा है। जल्द ही इसे लेकर सदर अस्पताल व सभी सीएचसी में मॉक ड्रिल करने का निर्देश दिया है।

डॉ प्रभात ने कहा कि कई पीएसए प्लांट के संचालन के लिए ट्रेंड स्टॉफ नहीं होने से सही से संचालन नहीं हो पा रहा है। जल्द ही कर्मियों को चिन्हित कर ट्रेनिंग दी जाएगी। चाइनीज निमोनिया को दवा जल्द ही उपलब्ध करा दी जाएगी। सदर अस्पताल में सभी दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाएगी। सभी सीएचसी और सदर अस्पताल में व्यवस्था की जांच को लेकर मॉक ड्रील कर लिया जाएगा। डॉ प्रभात ने बताया कि सदर अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट भी सही से काम कर रहा है। मरीज बढ़ने की स्थिति में अलग से वार्ड चिन्हित हैं, जहां मरीजों को भर्ती किया जाएगा।

ये एहतियात बरतें

● लोग अपने घरों और दफ्तरों के पास सफाई रखें
● किसी भी तरह के बुखार के लक्षण पर खुद दवा नहीं लें
● किसी भी भीड़भाड़ वाले इलाके में जाने से बचें।
● जरूरत लगने पर तुरंत मास्क व सेनिटाइजर इस्तेमाल करें।
● सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करें।
● खांसते या छींकते समय मुंह को रूमाल या हाथ से ढक लें।

अनगड़ा में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था पूरी

अनगड़ा सीएचसी में अलग वार्ड व बेड को खाली रखा गया है। चिकित्सा प्रभारी डॉ शशि प्रभा ने बताया कि जिला मुख्यालय से सभी उपकरण को तैयार रखने का निर्देश मिला है। अस्पताल में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और सिलेंडर तैयार है। एंटिबायोटिक समेत अन्य दवाइयों के पर्याप्त स्टॉक हैं। मैनपावर भी है।

उन्होंने बताया कि इस बीमारी से बचने के लिए ठंड से बचना जरूरी है। भीड़ और धूल वाले इलाके में जाने से बचने का प्रयास करना चाहिए। यदि जाने की आवश्यकता पड़े तो मास्क जरूर लगाएं। ये फेफड़े को प्रभावित करती हैं। सांस लेने में कठिनाई, खांसी और बुखार इसके प्रमुख लक्षण हैं।

सदर में अलर्ट के बावजूद कुछ दवाओं की कमी

सिविल सर्जन ने बताया कि सदर अस्पताल पूरी तरह से तैयार है। जल्द मॉक ड्रील होगी। उन्होंने बताया कि नीकू और पीकू पूरी तरह से तैयार है। बेहतर सुविधाएं दोनों वार्ड में हैं। व्यवस्था को दुरूस्त करने के साथ ही मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया गया, ताकि समय पर काम पूरा हो।

रिम्स की पीडियाट्रिक आईसीयू हो रही है तैयार

चाइनीज निमोनिया को लेकर रिम्स अलर्ट मोड पर है। रिम्स निदेशक डॉ राजीव गुप्ता ने बताया कि पीडियाट्रिक आईसीयू को दुरुस्त किया जा चुका है। दस बेड पहले ही बढ़ाए गए हैं। रिम्स के सभी पीएसए प्लांट और ऑक्सीजन बेड तैयार हैं। हाई फ्लो मशीनों की जांच की जाएगी। सभी बेडों पर पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचाई जा रही है। उन्होंने बताया कि जरूरत पड़ने पर सभी व्यवस्था की जांच करने को लेकर एक जरूरी मॉक ड्रील भी की जाएगी।

विशेषज्ञ बोले- डरें नहीं, बच्चों में बन चुका है इम्यूनिटी

रिम्स के शिशु रोग विभाग के चिकित्सक डॉ अभिषेक रंजन ने बताया कि राज्य में मरीजों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। झारखंड में यह वायरस आकर गुजर चुका है। चीन में जो परेशानी हो रही है, उसे लेकर कुछ महीने पहले राज्य में बड़ी संख्या में बच्चे अस्पताल पहुंच रहे थे। चीन में पाबंदी देर तक रही। वहां इम्यूनिटी नहीं बन सकी। इसलिए यह परेशानी है। पर, हमें भी एहतियात के तौर पर तैयार रहना चाहिए। पर डरने की बात नहीं है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें