ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडचीन के साइबर अपराधी भारत में एक्टिव, एक गलती और पूरा खाता साफ; एजेंट दे रहे बड़ी लालच

चीन के साइबर अपराधी भारत में एक्टिव, एक गलती और पूरा खाता साफ; एजेंट दे रहे बड़ी लालच

चीन के साइबर अपराधी भारत में एजेंटों के माध्यम से ठगी की घटना को अंजाम दे रहे हैं। उनके एजेंट 10 गुना रिटर्न का लालच देते हैं। एक ऐसे ऐप में पैसा निवेश कराया जाता है, जिसमें हमेशा लाभ ही दिखता है।

चीन के साइबर अपराधी भारत में एक्टिव, एक गलती और पूरा खाता साफ; एजेंट दे रहे बड़ी लालच
cyber fraud
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,रांचीSun, 26 May 2024 07:15 AM
ऐप पर पढ़ें

रातोंरात अमीर बनने का ख्वाब देखने वाले अक्सर साइबर ठगी का शिकार बन जाते हैं। साइबर ठग कभी डरा कर तो कभी जिंदगी बदलने का भरोसा देकर लोगों को अपना शिकार बनाते हैं। ऐसे में झारखंड में साइबर ठगी का एक ऐसा मामला सामने आया है जिसके तार चीन से जुड़े हुए हैं। एक शख्स के साथ 96 लाख रुपए की ठगी की गई। दरअसल, भारत से ठगी के पैसों को चीन भेजा जा रहा था। दो या तीन गुना नहीं, पैसों को सीधे दस गुना बढ़ाकर रिटर्न देने का लालच देकर लोगों को ये ठग शिकार बना रहे थे। इस गैंग पर कई राज्यों में केस दर्ज हैं। इसमें एक महिला भी शामिल है।

एजेंट दे रहे बड़ी लालच 

जानकारी के मुताबिक, चीन के साइबर अपराधी भारत में एजेंटों के माध्यम से ठगी की घटना को अंजाम दे रहे हैं। उनके एजेंट 10 गुना रिटर्न का लालच देते हैं। एक ऐसे ऐप में पैसा निवेश कराया जाता है, जिसमें हमेशा लाभ ही दिखता है। सीआईडी की साइबर क्राइम ब्रांच टीम ने रांची, मुंबई और कोलकाता में छापेमारी कर महिला समेत तीन ठगों को गिरफ्तार करने के बाद शनिवार को जेल भेज दिया। आरोपियों में रांची की महिला के अलावा महाराष्ट्र का प्रदीप मनीराम और कोलकाता का अजय कुमार है।

कई राज्यों में केस दर्ज

पुलिस ने इनके पास से आठ मोबाइल, कॉरपोरेट खातों से लिंक 8 सिम कार्ड, कॉरपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के फर्जी कागजात, ठगी से जुड़े व्हाट्सऐप चैट बरामद हुए हैं। इन पर असम, केरल, पंजाब, उत्तर प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान और आंध्र प्रदेश में 13 मामले दर्ज हैं। बताया गया कि संजीव कुमार को ठगों ने व्यवसाय में निवेश करने पर 10 गुना लाभ का लालच देकर उनसे 96 लाख रुपए की ठगी की थी। इस पर पीड़ित ने साइबर थाने में केस दर्ज कराया था।

ठगी का चीन कनेक्शन

अधिकारियों के अनुसार, ठग जिस ऐप को प्रयोग करते हैं वह चीन से संचालित होता है। इसमें निवेश करने वाले शख्स को हर समय मुनाफा दिखता है। इसी का झांसा देकर चाइनीज साइबर अपराधी भारत में अपने एजेंट से ठगी करा रहे हैं। इस लिंक के माध्यम से जितने पैसे की ठगी की गई है उन सभी पैसों को हांगकांग, जापान व चीन के बैंक खातों में ट्रांसफर किया गया है।

व्हाट्सऐप पर लिंक भेजकर की ठगी

संजीव को झांसे में लेकर ठगों ने व्हाट्सऐप पर कई लिंक भेजे। पैसे निवेश करने के लिए खातों की डिटेल दी। धीरे-धीरे संजीव ने 96 लाख उनके खाते में भेज दिए। पुलिस ने एक महिला समेत तीन ठगों को पकड़ा है। इस ठगी के पीछे चाइना कनेक्शन भी सामने आया है। दरअसल, ठगी के पैसों को चीन भेजा जा रहा था।