ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडखलारी में सीसीएल कर्मचारी की गोली मारकर हत्या, परिजनों का हंगामा

खलारी में सीसीएल कर्मचारी की गोली मारकर हत्या, परिजनों का हंगामा

खलारी थाना क्षेत्र के पिपरवार परियोजना में माइनिंग सरदार के पद पर कार्यरत सीसीएल कर्मचारी राम विजय सिंह (56) की हथियारबंद अपराधियों ने रविवार को दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी।

खलारी में सीसीएल कर्मचारी की गोली मारकर हत्या, परिजनों का हंगामा
Abhishek Mishraहिन्दुस्तान,रांचीMon, 06 Nov 2023 08:46 AM
ऐप पर पढ़ें

खलारी थाना क्षेत्र के पिपरवार परियोजना में माइनिंग सरदार के पद पर कार्यरत सीसीएल कर्मचारी राम विजय सिंह (56) की हथियारबंद अपराधियों ने रविवार को दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी। राम विजय के पेट में दो गोली लगी है। पिपरवार महाप्रबंधक कार्यालय के पास सुबह लगभग सवा नौ बजे घटना घटी।

पुलिस ने बताया कि राम विजय सिंह सुबह ड्यूटी पर जा रहे थे। इस बीच अपराधियों ने उनपर फायरिंग कर दी। गोली लगने के बाद राम विजय सिंह बाइक से सड़क पर गिर गए।

सूचना मिलने पर सहयोगी सीसीएल कर्मचारी गुरदयाल सिंह और केपी यादव मौके पर पहुंचे और उन्हें पिपरवार क्षेत्रीय अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। राम विजय सिंह बिहार के औरंगाबाद जिला के मदनपुर थाना के बलार गांव के निवासी थे। वर्तमान में पिपरवार थाना क्षेत्र की अशोक विहार कॉलोनी में रहते थे।

इधर, घटना के बाद यूनियन के लोगों ने मृतक के परिजनों को तत्काल नियुक्ति पत्र देने की मांग को लेकर शव उठाने से रोक दिया। गुरदयाल सिंह ने बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद हमलोग वहां पहुंचे और उन्हें उठाकर पिपरवार क्षेत्रीय अस्पताल पहुंचाया। हत्या क्यों की गई, इसका अभी तक कुछ पता नहीं चल सका है। घटना के बाद राम विजय सिंह के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मौके से पुलिस ने नाइन एमएम पिस्टल का दो खोखा बरामद किया है। सूचना मिलने पर खलारी डीएसपी अंकिता राय समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे और मामले की जांच की। पुलिस ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। अपराधियों की पहचान के लिए कार्रवाई की जा रही है।

मृतक के पुत्र को नियुक्ति पत्र मिलने के बाद उठा शव

पिपरवार क्षेत्र के महाप्रबंधक सीबी सहाय ने मृतक राम विजय सिंह के पुत्र कांत ओमकार नारायण सिंह को तत्काल नियुक्ति पत्र दिया। इनमोसा के सदस्य मृतक के परिजनों को तत्काल नियुक्ति पत्र और मुआवजा राशि देने के बाद ही शव उठाने देने की मांग पर अड़े हुए थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें