DA Image
25 जनवरी, 2021|7:29|IST

अगली स्टोरी

करोड़ों के चिटफंड घोटाले में सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, 'मातृभूमि' के अफसरों पर शिकंजा

चिटफंड घोटाले में सीबीआई की आर्थिक अपराध शाखा ने मातृभूमि मैन्युफैक्चरिंग एंड मार्केटिंग इंडिया लिमिटेड व डायरेक्टर, असिस्टेंट डायरेक्टर व एजेंटों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। सीबीआई ने इस मामले में जामताड़ा और देवघर में दर्ज कांड के आधार पर कार्रवाई की है। सीबीआई के एफआईआर में जिक्र है कि झारखंड हाईकोर्ट के साल 2015 में झारखंड अगेंस्ट करप्शन की याचिका पर सुनवाई करते हुए सीबीआई जांच का आदेश दिया था। इसी आदेश के आधार पर सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की है।

किन-किन धाराओं में केस दर्ज
सीबीआई के एफआईआर के मुताबिक, साल 2011 से 2014 के बीच जामताड़ा समेत कई जिलों में कंपनी ने अपने एजेंट बनाकर तय समय में दोगुना, तीन गुना पैसा देने का झांसा देते हुए पैसों की वसूली की थी। बाद में कंपनी ने पैसों का भुगतान नहीं किया। ऐसे में साल 2015 में जामताड़ा थाने में इस संबंध में दो एफआईआर दर्ज की गई। सीबीआई ने उसी मामले को आधार बनाते हुए कंपनी के पदाधिकारियों को आरोपी बनाया है। सीबीआई ने आईपीसी की धारा-120 बी, 406, 420, 467, 468, 471, 506 और एनआई एक्ट की धारा-138 के तहत केस दर्ज किया है। केस में जांच का जिम्मा सब इंस्पेक्टर शहनवाज अब्दुल्ला को सौंपा गया है। 

सीबीआई ने किस-किस को बनाया आरोपी
आनंद कुमार मिश्रा (असिस्टेंट डायरेक्टर), बासुकी प्रसाद ओझा (असिस्टेंट डायरेक्टर), जीतेंद्र कुमार तिवारी (असिस्टेंट डायरेक्टर), धनंजय कुमार तिवारी (असिस्टेंट डायरेक्टर), धनंजय मंडल (डायरेक्टर) समेत गोविंद राणा, विष्णु महतो, राजकुमार मंडल, संजीत राणा और पूर्णचंद्र मंडल।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CBI registers FIR in crores of chit fund scam screws on motherland officers