ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडकब आएगा झारखंड का बजट? सीएम चंपई सोरेन ने बताया, स्पीकर की पक्ष-विपक्ष को सलाह

कब आएगा झारखंड का बजट? सीएम चंपई सोरेन ने बताया, स्पीकर की पक्ष-विपक्ष को सलाह

झारखंड में जल्द ही बजट सत्र शुरू होने वाला है। ऐसे में सीएम चंपई सोरेन ने कहा कि जल्द ही बजट पेश किया जाएगा जो जनला के हित में होगा। उन्होंने कहा कि सरकार हर सवाल का जवाब देने को तैयार है।

कब आएगा झारखंड का बजट? सीएम चंपई सोरेन ने बताया, स्पीकर की पक्ष-विपक्ष को सलाह
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,रांचीFri, 23 Feb 2024 06:39 PM
ऐप पर पढ़ें

मुख्यमंत्री चंपई सोरेन ने कहा है कि झारखंड विधानसभा का बजट सत्र राजनीतिक परिस्थितियों की वजह से छोटा आहूत किया गया है सरकार सदन में हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि इस बार का बजट झारखंड की जनता के हित में होगा।

चंपई उन्होंने स्पीकर रबींद्र नाथ महतो की अध्यक्षता में गुरुवार को आहूत सर्वदलीय बैठक के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। झारखंड विधानसभा का बजट सत्र शुक्रवार से आहूत है। सत्र दो मार्च तक चलेगा। सात कार्य दिवस में पहले दिन चालू वित्त वर्ष का तीसरा अनुपूरक बजट पेश किया जाएगा। चंपई सरकार 2024-25 का बजट 27 फरवरी को पेश करेगी। बैठक में मुख्यमंत्री चंपई सोरेन, नेता प्रतिपक्ष अमर कुमार बाउरी, मंत्री सत्यानन्द भोक्ता, सदस्य लंबोदर महतो, सरयू राय, प्रदीप यादव, कमलेश कुमार सिंह के अलावे सभा सचिवालय के प्रभारी सचिव सैयद जावेद हैदर शामिल हुए। संसदीय कार्यमंत्री ने राज्य से बाहर होने की जानकारी स्पीकर को दी थी। कांग्रेस की ओर से कोई सदस्य मौजूद नहीं रहे।

पक्ष और विपक्ष सत्र को उपयोगी बनाएं स्पीकर

विधानसभा अध्यक्ष रबीन्द्रनाथ महतो ने सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों से बजट सत्र को उपयोगी बनाने का आह्वान किया है। कहा कि राजनीतिक कारणों से सत्र को छोटा आहूत करने की बाध्यता थी। लेकिन, लोगों की समस्याओं का अधिक से अधिक समाधान करा कर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों इसे उपयोगी बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि सत्र की अवधि बढ़ाने को लेकर सुझाव पर कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में विचार किया जाएगा।

ये डर का अखिरी सत्र अमर बाउरी

नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी ने सरकार के बजट सत्र को डर का सत्र करार दिया है। उन्होंने कहा है कि पंचम विधानसभा का ये आखिरी बजट सत्र है, लेकिन चंपई सरकार का यह पहला बजट सत्र है। इस कारण सत्र का समय और बढ़ाया जाना चाहिए। विभागों के बजट पर सदन में चर्चा होनी चाहिए। चर्चा के बाद खर्च पर निर्णय होना चाहिए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें