DA Image
21 अक्तूबर, 2020|4:05|IST

अगली स्टोरी

झारखंड सरकार के गंभीर रूप से बीमार कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, जानें क्या मिली रियायत

झारखंड सरकार के गंभीर रूप से बीमार कर्मचारियों के लिए राहत भरी खबर है। ऐसे कर्मचारियों को उनकी शारीरिक स्थिति के आधार पर 31 जुलाई तक कार्यालय जाने से छूट मिलेगी। कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार सचिव अजय कुमार सिंह ने इसके लिए आदेश जारी किए हैं। कार्मिक सचिव के आदेश के मुताबिक हाई ब्लडप्रेशर, डायबिटीज और श्वास से संबंधित गंभीर बीमारियों वाले कर्मचारियों को कार्यालय आने की बाध्यता से मुक्ति मिलेगी। इसके लिए उनके कार्यालय प्रधान शारीरिक स्थिति के आधार पर केस-टू-केस फैसला लेंगे। ऐसे कर्मचारी या पदाधिकारी वर्क फ्रॉम होम के आधार पर काम करेंगे। गर्भवती महिलाओं के लिए भी नए आदेश में रियायत का प्रावधान किया गया है। इनमें से जो इम्युनो कंप्रोमाइज की श्रेणी में आती हैं उनके लिए अनिवार्य तौर पर कार्यालय आने की बाध्यता से छूट देनी है।

कैंसर, गुर्दा एवं लीवर के रोगियों के लिए अनिवार्य : कीमियोथेरेपी करा रहे कैंसर के रोगी को भी कार्यालय आने की बाध्यता से मुक्ति मिलेगी। इसके अलावा गुर्दा एवं लीवर प्रत्यारोपण करा चुके व्यक्ति भी ऑफिस आने की बाध्यता से छूट का लाभ उठा सकते हैं। इन सभी को कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए इस तरह की सुविधा देने की व्यवस्था की गई है।

केंद्र सरकार ने जारी की थी एडवाइजरी : भारत सरकार ने पहले से बीमार मरीजों के कोरोना से ज्यादा संक्रमण की स्थिति को देखते हुए पिछले दिनों एडवाइजरी जारी की थी। इसमें गंभीर रूप से बीमार लोगों को सरकारी कार्यालयों में आने से छूट देने का प्रावधान किया गया था। केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के लिए यह व्यवस्था पहले ही लागू कर दी है। झारखंड  सरकार की ओर से अभी तक इसके लिए विशेष आदेश जारी नहीं किए गए थे। किसी कर्मचारी के व्यक्तिगत अनुरोध पर फैसला लिए जाते थे। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Big news for seriously ill employees of Jharkhand government learn what concession