ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंडलापरवाही की भेंट चढ़ा जागराहा डैम का सुंदरीकरण, 1 शुरू हुआ था काम; 6 में ईंट तक नहीं रखी

लापरवाही की भेंट चढ़ा जागराहा डैम का सुंदरीकरण, 1 शुरू हुआ था काम; 6 में ईंट तक नहीं रखी

लातेहार जिले के चंदवा के लाइफलाइन जगराहा डैम के सुंदरीकरण का काम आज भी अधूरा पड़ा है। पहले चरण में सुंदरीकरण के लिए सात योजनाओं की स्वीकृति दी गयी थी। क्या है पूरा मामला जानें यहां।

लापरवाही की भेंट चढ़ा जागराहा डैम का सुंदरीकरण, 1 शुरू हुआ था काम; 6 में ईंट तक नहीं रखी
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,लातेहरThu, 22 Feb 2024 10:25 PM
ऐप पर पढ़ें

लातेहार जिले के चंदवा के लाइफलाइन जगराहा डैम के सुंदरीकरण का काम आज भी अधूरा पड़ा है। पहले चरण में सुंदरीकरण के लिए सात योजनाओं की स्वीकृति दी गयी थी। 155 लाख रुपये की निविदा भी निकाली गयी। लेकिन सात में से मात्र एक पर कार्य शुरू हो पाया है। इसके बाद वहां विवाद हो गया। शेष छह में तो एक ईंट तक नहीं लग पायी। स्थानीय लोगों को उम्मीद थी कि जगराहा डैम का सुंदरीकरण होगा तो सुबह-शाम घूमने की एक अच्छी जगह हो जाएगी। साथ ही पानी की गुणवत्ता में भी सुधार होगा। यहां बता दें कि इसकी पहल दो साल पहले लातेहार के तत्कालीन डीसी अबु इमरान ने की थी। स्थानीय लोग बताते है कि जगराहा डैम की सुंदरीकरण की बात जब सामने आयी तो लगा कि अब शायद कायाकल्प हो जाए। ग्रामीणों ने डीसी से मिलकर उचित कार्रवाई की मांग की है।

प्रदूषण और अतिक्रमण की भेंट चढ़ गया जगराहा डैम
जगराहा डैम शहर से सटा हुआ इलाका है। इसके आसपास घनी आबादी है। चंदवा में सुबह-शाम टहलने की कोई माकूल जगह नहीं है। डैम के सुंदरीकरण हो जाने से यहां के लोगों को काफी लाभ मिलता। फिलहाल जगराहा डैम शैवाल से भरा पड़ा है। प्रदूषण स्तर इतना बढ़ गया है कि डैम का पानी जहरीला हो गया है। जलीय जीव मर रहे हैं। मवेशी भी इसका पानी पीने से कतराते हैं। वहीं अतिक्रमणकारियों ने जगह-जगह पर डैम की जमीन पर कब्जा कर रखा है।

मास्टर प्लान बनाकर होगा काम तब ही कायाकल्प सम्भव
चंदवा उप प्रमुख अश्विनी मिश्र ने कहा कि चंदवा शहर की जलदायिनी जगराहा डैम अब मृतप्रायः हो चुकी है। मास्टर प्लान बनाकर इस दिशा में कार्य होगा तभी इसका निराकरण संभव है। प्रशासन इस दिशा में पिछले एक दशक से कोई कदम उठा ही नहीं रही है। वहीं चंदवा निवासी महेंद्र साहू ने कहा कि जगराहा डैम एक समय में मनोरम दृश्य के लिए प्रसिद्ध था। लोग घूमने आया करते थे। आज स्थिति ऐसी हो गई है कि इसे डैम कहें कि तालाब पता ही नही चलता। यदि इस दिशा में जल्द पहल नहीं हुई तो भविष्य भयावह होगा। क्योंकि शहर से सटा जगराहा डैम भू-जलस्तर को बनाये रखने में भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें