ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडदो महीने पहले हुआ गैंगरेप, परिजनों को भी नहीं बताया, अब दी जान, लिखा- मैं ऐसे नहीं जी सकती

दो महीने पहले हुआ गैंगरेप, परिजनों को भी नहीं बताया, अब दी जान, लिखा- मैं ऐसे नहीं जी सकती

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि FIR मृतका की मां के बयान पर दर्ज की गई थी, जिन्होंने RIMS में शव परीक्षण के बाद लड़की का अंतिम संस्कार किए जाने के एक दिन बाद मंगलवार को शिकायत दर्ज कराई थी।

दो  महीने पहले हुआ गैंगरेप, परिजनों को भी नहीं बताया, अब दी जान, लिखा- मैं ऐसे नहीं जी सकती
Sourabh Jainराजकुमार,रांचीWed, 08 May 2024 06:42 PM
ऐप पर पढ़ें

रांची में बिरसा कृषि यूनिवर्सिटी (BAU) की छात्रा के सुसाइड मामले में पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया है। सेकंड ईयर की छात्रा ने आरोपियों द्वारा सामूहिक बलात्कार करने के दो महीने बाद हाल ही में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। गैंगरेप की बात घरवालों को भी नहीं पता थी, इसका पता युवती के सुसाइड नोट से लगा।

इस बारे में जानकारी देते हुए सदर पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी कुलदीप कुमार ने कहा,'पुलिस और लड़की के परिवार को सामूहिक बलात्कार के बारे में कोई जानकारी नहीं थी, हालांकि लड़की के परिवार द्वारा उपलब्ध कराए गए दो सुसाइड नोट्स के अनुसार सामूहिक बलात्कार 6 मार्च को किया गया था। सुसाइड नोट में सामूहिक बलात्कार में शामिल दो युवकों के नाम बताए गए हैं।'  खास बात यह ह ैकि ये सुसाइड नोट एक महीने के अंतराल पर लिखे गए हैं।

आगे उन्होंने कहा, 'हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि सामूहिक बलात्कार के बारे में किसी को नहीं बताने वाली लड़की ने किन परिस्थितियों में आत्महत्या करने से दो महीने पहले सुसाइड नोट लिखा था।'

सुसाइड नोट में लड़की ने खुदकुशी के लिए दो युवकों को जिम्मेदार ठहराते हुए लिखा, 'मेरी आत्महत्या का कारण आनंद मिंज और अरविंद किंडो हैं, जो काठीटांड़ के रहने वाले हैं। 6 मार्च को वे मुझे बहला-फुसलाकर कोकर चौक के अंदर ले गए और फिर मेरे साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। मैं इस तरह घुट-घुट कर नहीं जी सकती। इसलिए जा रही हूं, सभी से माफी चाहती हूं...! सॉरी मां....! सब कुछ सीसीटीवी में कैद है।' 

युवती के सुसाइड के बारे में जानकारी देते हुए पुलिस अधिकारी ने कहा, '5 मई को लड़की रात के खाने के बाद अपने कमरे में सोने गई थी। अगली सुबह (6 मई) जब उसके कमरे का दरवाजा देर तक नहीं खुला, तो उसके माता-पिता को शक हुआ और उन्होंने दरवाजा तोड़ दिया। उन्होंने लड़की को पंखे से लटका हुआ पाया। जिसके बाद पुलिस को सूचित किया गया और उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। अगले दिन लड़की की मां के लिखित बयान के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई।'

पुलिस अधिकारी ने कहा कि सुसाइड नोट में यह नहीं बताया गया है कि आरोपी बलात्कारी युवक लड़की को कॉल करके बुलाने में कैसे कामयाब रहे थे। साथ ही सुसाइड नोट में युवती ने जिस CCTV फुटेज का जिक्र किया है, उसके बारे में भी पुलिस पता लगा रही है। उन्होंने बताया कि इस मामले में IPC की धारा 306 के तहत FIR दर्ज की गई है और जांच शुरू कर दी गई है।