DA Image
30 मई, 2020|6:27|IST

अगली स्टोरी

पहली बार चैत्र नवरात्र के पहले दिन वीरान रहा बाबा बासुकीनाथ मंदिर

वैश्विक महामारी से निबटने के लिए देशभर में लॉक डाउन के दौरान बासुकीनाथ मंदिर में फौजदारी बाबा की पूजा अर्चना नियमित रूप से हो रही है। तड़के सुबह मंदिर खुलने के बाद पुरोहित पूजा एवं दोपहर के बाद बाबा बासुकीनाथ की विश्राम पूजा तथा रात्रि कालीन शृंगार पूजन नियमित रूप से हो रही है। 16 वीं सदी में बासुकी द्वारा भगवान नागेश बासुकीनाथ के ज्योतिर्मय शिवलिंग को भूगर्भ से निकालने के बाद आज तक कभी भी बासुकीनाथ मंदिर बंद नहीं रहा था। इतिहास के आईने में महादेव और भक्तों के बीच कभी ऐसी दूरियां नहीं बनी थी। कोरोना वायरस के कारण भयावह स्थिति से पूरी मानव जाति को निजात दिलाने के लिए सरकार द्वारा कड़े कदम उठाए गए हैं। चैत्र नवरात्रि के दौरान आदि शक्ति महामाया की पूजा अर्चना के लिए अक्सर बासुकीनाथ मंदिर के फौजदारी दरबार में प्रतिवर्ष दर्शनार्थियों की भीड़ लगी रहती थी। पहले दिन ही चहल-पहल के माहौल के बीच मंदिर परिसर में स्थित भगवती काली, तारा, षोडशी, भुवनेश्वरी, छिन्नमस्ता, मातंगी, बगलामुखी, धूमावती, मातंगी एवं कमला इत्यादि 10 महाविद्याओं की पूजा अर्चना नियमित रूप से करने के लिए भक्तों का तांता लगा रहता था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Baba Basukinath Temple deserted on first day of Chaitra Navratri