ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड4 जून को नतीजे, 5 को बाहर आ जाएंगे हेमंत सोरेन, झारखंड में बोले केजरीवाल

4 जून को नतीजे, 5 को बाहर आ जाएंगे हेमंत सोरेन, झारखंड में बोले केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा, बिना दोषी करार दिए जेल में डाल दिया। यह मोदी की 'गुंडागर्दी' है। किसी भी अदालत ने मेरे ख़िलाफ़ आदेश नहीं दिया लेकिन मुझे जेल में डाल दिया गया, कल किसी को भी जेल में डाला जा सकता है।

4 जून को नतीजे, 5 को बाहर आ जाएंगे हेमंत सोरेन, झारखंड में बोले केजरीवाल
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 21 May 2024 05:18 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल झारखंड में आयोजित इंडिया गठबंधन की रैली में शामिल हुए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। इस दौरान उन्होंने कहा, अभी तक दोषी करार नहीं हुए तो हेमंत सोरेन को जेल में क्यों डाल दिया। उन्होंने कहा, किसी भी अदालत ने हेमंत सोरेन को दोषी नहीं ठहराया है। जांच चल रही है। तो, वह जेल में क्यों हैं? यह मोदी की 'गुंडागर्दी' है। किसी भी अदालत ने मेरे ख़िलाफ़ आदेश नहीं दिया लेकिन मुझे जेल में डाल दिया गया, कल किसी को भी जेल में डाला जा सकता है।"

उन्होंने कहा, इंडिया गठबंधन को वोट देते ही हेमंत सोरेन बाहर आ जाएंगे. उन्होंने कहा, 4 जून को इंडिया गठबंधन की सरकार बनते ही 5 जून को हेमंत सोरेन हम सब के बीच होंगे। इसी के साथ उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह आदिवासियों से नफरत करते हैं। उन्होंने सवाल किया पीएम मोदी ने राष्ट्रपति से राम मंदिर का उद्घाटन क्यों नहीं करवाया।

इस दौरान संबित पात्रा के बयान वाला मुद्दा भी उठाया और कहा कि  BJP के सबसे बड़े प्रवक्ता संबित पात्रा ने कल कहा कि “भगवान जगन्नाथ मोदी के सबसे बड़े बड़े भक्त हैं।” इनके लिए मोदी जी भगवान जगन्नाथ से भी बड़े हो गये। ये काफ़ी पीड़ादायक बात है। इन्हें जनता सबक़ ज़रूर सिखाएगी।

केजरीवला ने कहा, आदिवासी समाज के सबसे बड़े नेता हेमंत सोरेन जी  को जेल में डालकर नरेंद्र मोदी ने पूरे आदिवासी समाज को चुनौती दी है। उन्होंने आदिवासी समाज को ललकारा है कि जो करना है कर लो। तो इस बार जब 25 मई और 1 जून को वोट डालने जाओ तो EVM में इतना बटन दबाना कि उसकी आवाज मोदी जी के कानों में गूंज जाए। हमारे इष्ट देवता राम मंदिर का उद्घाटन हुआ। मंदिर का उद्घाटन राष्ट्रपति को करना चाहिए था, लेकिन वह आदिवासी हैं इसलिए उन्हें नहीं बुलाया। ये आदिवासी समाज का कितना बड़ा अपमान है।