DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्य के सभी पारा शिक्षकों की नियुक्ति की जांच होगी, गढ़वा-पलामू पर विशेष जोर 

राज्य के सभी 65 हजार पारा शिक्षकों की बहाली की जांच की जायेगी। इस जांच में यह पता लगाया जाएगा कि बहाली में निर्धारित प्रक्रिया का पालन हुआ है या नहीं। पलामू के नौडीहा बाजार और छतरपुर प्रखंड में 458 पारा शिक्षकों की गलत तरीके से बहाली का मामला सामने आने के बाद सरकार ने यह निर्णय लिया  है। सरकार ने सभी उपायुक्तों को डीडीसी  की अध्यक्षता में कमेटी बनाकर बहाली की जांच करने का निर्देश दिया है। 
 
झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद (जेईपीसी) के राज्य परियोजना निदेशक उमाशंकर सिंह ने सभी उपायुक्तों को निर्देश दिया है कि पलामू में पारा शिक्षकों की बहाली में अनियमितता पायी गई। पलामू डीडीसी की रिपोर्ट पर संबंधित शिक्षकों के मानदेय को रोकने के साथ-साथ उन्हें सेवामुक्त करने के लिए डीईओ-डीएसई को निर्देश दिया गया है। राज्य के दूसरे प्रखंडों में इस तरह की गड़बड़ी की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। ऐसे में सभी उपायुक्त डीडीसी की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन करें। यह कमेटी संबधित जिलों में प्रखंडवार पारा शिक्षकों की बहाली में निर्धारित मापदंडों का पालन किया गया या नहीं इसकी जांच करेगी। उन्होंने जांच जल्दी पूरी कर विभाग को रिपोर्ट सौंपने का भी आदेश दिया है।  

पांच जिलों की जांच में विशेष जोर 
पारा शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया की जांच के लिए विभाग ने पांच जिलों पर विशेष जोर दिया है। इसमें पलामू, गढ़वा, चतरा, देवघर और साहिबगंज शामिल है। यहां पारा शिक्षकों की बहाली की गंभीरता पूर्वक जांच का निर्देश दिया गया है। इन जिलों से गलत रूप से बहाली की लगातार शिकायत विभाग को मिलती रही  है। 

इन बिंदुओं पर की जायेगी जांच
बहाली की जांच के लिए विभाग ने पांच बिंदु तय किए हैं। निर्देश के अनुसार टीम यह जांच करेगी कि बहाली में ग्राम शिक्षा समिति, प्रखंड शिक्षा समिति से अनुशंसा ली गई है या नहीं। प्रखंड शिक्षा समिति के बाद जिला स्तरीय कमेटी से बहाली की मंजूरी मिली या नहीं। इसके अलावा इस बात की भी जांच की जाएगी कि कहीं पारा शिक्षकों की बहाली सिर्फ अधिकारियों की अनुशंसा पर तो नहीं कर ली गई है।

458 की बहाली में मिली थी गड़बड़ी
पलामू के डीडीसी की जांच में जिले के दो प्रखंडों नौडीहा बाजार और छतरपुर में 458 पारा शिक्षकों की बहाली में अनियमितता पाई गई थी। इन नियुक्तियों में तय मानकों का पालन नहीं किया गया था। कई लोगों को दस्तावेज भी नहीं मिल सके थे। नौडीहा बाजार प्रखंड के 251 पारा शिक्षकों का चयन अवैध पाया गया, जबकि 18 शिक्षकों की बहाली के कोई दस्तावेज नहीं मिले। वहीं, छतरपुर प्रखंड के 184 पारा शिक्षकों का चयन अवैध था और पांच शिक्षकों के बहाली संबंधि दस्तावेज नहीं पाये गये। इनलोगों के खिलाफ विभाग ने पहले ही कार्रवाई शुरू कर दी  है।

क्या कहते हैं अधिकारी
पलामू के दो प्रखंडों में 458 पारा शिक्षकों की बहाली में नियमों का पालन नहीं किया गया। डीडीसी की जांच रिपोर्ट के बाद विभाग ने कार्रवाई की है। साथ ही, अन्य प्रखंडों में भी इस तरह की गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए जांच के आदेश दिये गये हैं। 
-उमाशंकर सिंह, राज्य परियोजना निदेशक, झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद्    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Appointment of all para teachers in the state special emphasis on Garhwa-Palamu