ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडझारखंड के 80 लड़कों से करोड़ों की ठगी, सोशल मीडिया पर नौकरी वाले पोस्ट ने बुरा फंसाया

झारखंड के 80 लड़कों से करोड़ों की ठगी, सोशल मीडिया पर नौकरी वाले पोस्ट ने बुरा फंसाया

युवकों से नोएडा निवासी रंजीत कुमार का हजारीबाग के फेडरल बैंक अकाउंट में 80 हजार रुपये जमा कराया गया था, जो बैंक हजारीबाग बंसी लाल चौक में स्थित है। बाकी 80 हजार रुपये नकद लिया गया था।

झारखंड के 80 लड़कों से करोड़ों की ठगी, सोशल मीडिया पर नौकरी वाले पोस्ट ने बुरा फंसाया
Devesh Mishraहिन्दुस्तान,चाईबासाMon, 17 Jun 2024 11:01 AM
ऐप पर पढ़ें

सोशल मीडिया पर अक्सर आपने नौकरी वाले पोस्ट देखे होंगे। इनमें बेरोजगार युवाओं को अच्छी सैलरी देने का वादा किया जाता है। हालांकि इनमें से ज्यादातर पोस्ट फर्जी होते हैं। ऐसे में नौकरी के नाम पर लोगों को फंसाने वाले एक गैंग का खुलासा हुआ है। इस गैंग ने झारखंड के 80 लड़कों को अपना शिकार बनाया और उनसे करोड़ों रुपए की काली कमाई की। गैंग में तीन ठग शामिल थे, तीनों उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। खुलासे के बाद तीनों फरार हैं, पुलिस उन्हें ढूंढने की कोशिश में जुटी हुई है।

ऑफिस भी खोले थे
झारखंड में विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर यूपी के तीन ठगों ने झारखंड के लगभग 80 बेरोजगार युवकों से करोड़ों रुपये ठगी कर फरार हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक, हजारीबाग के हुरहुरू रोड स्थित कोतवाली कम्प्लेक्स में जेके इंटरप्राइजेज नामक कंपनी का कार्यालय संचालित किया जा रहा था। कार्यालय में यूपी के प्रमोद कुमार, रवि कुमार और मो. कलाम के साथ दो स्थानीय युवतियां काम कर रही थीं।

नौकरी वाले पोस्ट ने बुरा फंसाया
युवकों से नोएडा निवासी रंजीत कुमार का हजारीबाग के फेडरल बैंक अकाउंट में 80 हजार रुपये जमा कराया गया था, जो बैंक हजारीबाग बंसी लाल चौक में स्थित है। बाकी 80 हजार रुपये नकद लिया गया था। उक्त लोगों द्वारा दो महीना पहले व्हाट्सएप और फेसबुक में विदेश में नौकरी दिलाने का इस्तेहार निकाला गया था, जिसमें प्रमोद कुमार का मोबाइल नम्बर 9007318870 दिया गया था।

टिकट असली लेकिन कंफर्म नहीं
युवकों ने उसी नम्बर पर सम्पर्क कर हजारीबाग गए, जहां एजेंटों ने सभी युवकों को विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर पहले 80 हजार रुपये जामा करने को कहा गया और में 80 हजार रुपये नकद लिया। नौकरी पाने की ललक में हजारीबाग, बोकारो, चाईबासा, कोलकाता, जमशेदपुर, चतरा और उड़ीसा बड़बिल समेत अन्य कई शहरों के युवकों ने पैसा जमा कर दिए। सभी को वीजा और हवाई जहाज के टिकट एजेंटों द्वारा भेजा गया। सभी को अलग-अलग तिथि में कोलकाता, दिल्ली और मुंबई बुलाया गया और कहा गया कि एयरपोर्ट में ही असली वीजा, पासपोर्ट और हवाई जहाज का टिकट दिया जाएगा। इसके बाद एजेंटों के बताए अनुसार कोलकाता, दिल्ली और मुंबई पहुंच गए,लेकिन एजेंट नहीं पहुंचे। सभी दो दिनों तक एजेंटों का इंतजार किया, लेकिन वे नहीं पहुंचे। फिर सभी वापस घर लौट गए। पीड़ितों ने बताया कि वीजा और हवाई जहाज का टिकट सही था। लेकिन जहाज का टिकट कंफर्म नहीं हुआ था।