अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिरिडीह-बोकारो के 35 मजदूर मलेशिया में फंसे, वीजा भी जब्त

demo photo

गिरिडीह, बोकारो और हजारीबाग समेत राज्य के कई जिलों के 35 मजदूर महीनों से मलेशिया में फंसे हुए हैं। मजदूरों और उनके परिजनों ने भारत सरकार से वतन वापसी की गुहार लगाई है। वहां काम पर गए लोगों को न तो समय पर पूरा वेतन दिया जा रहा है और न लौटने दिया जा रहा है। बगोदर इलाके में संचालित वाट्सएप के प्रवासी ग्रुप के एडमिन सिकंदर अली ने यह मामला उजागर किया है।

मलेशिया में रह रहे बगोदर के खेतको निवासी विकास महतो ने बताया कि झारखंड के अलग- अलग इलाके के 35 मजदूर मलेशिया में फंसे हुए हैं। भारतीय हाई कमिशन को भी मामले की जानकारी दी गई है। मजदूरों को मलेशिया भेजने वाले एजेंट और कंपनी में एग्रीमेंट होता है कि काम मजदूर करेंगे मगर मजदूरी एजेंट को मिलेगी। फिर एजेंट मजदूरों को पैसा देंगे। मजदूरों ने कहा है कि उनका वीजा भी कंपनी ने जब्त कर रखा है। इन लोगों को ज्यादा पैसे देने की बात कहकर मलेशिया ले जाया गया था, मगर वहां कम पैसे दिए जा रहे हैं।

मलेशिया में फंसे मजदूरों में गिरिडीह जिले के मधुबन थाना क्षेत्र के धावाटांड़ अंतर्गत बरियारपुर निवासी विनोद कुमार महतो, बोकारो जिले के चिलगो निवासी राजेन्द्र महतो, विजय कुमार, लोकनाथ रविदास, छोटेलाल सोरेन, गणेश किस्कू, सत्यदेव करमाली, बोकारो के बरकीसिद्धवारा निवासी  महेन्द्र महतो, कौलेश्वर रविदास, भीम महतो एवं सिमडेगा के कैलाश प्रधान शामिल हैं। 


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:35 workers of Giridih-Bokaro stranded in Malaysia