Friday, January 28, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड सिमडेगाकोविड के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए सहारा बना जिला प्रशासन

कोविड के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए सहारा बना जिला प्रशासन

हिन्दुस्तान टीम,सिमडेगाNewswrap
Thu, 02 Dec 2021 10:10 PM
कोविड के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए सहारा बना जिला प्रशासन

सिमडेगा जिला प्रतिनिधि

कोविड 19 के कारण अपने पिता का साया खो देने के बाद मायूस और बेबस बच्चों के लिए जिला प्रशासन आगे आया है। कोरोना की दूसरी लहर में जिले के कई लोगों की मौत असमय हो गई थी। जिसके कारण कई बच्चें अनाथ हो गए थे। पिता को खोने के बाद बेबस बच्चों को पढ़ने लिखने में हो रही परेशानी को देखते हुए जिला प्रशासन ने बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए पहल शुरु की है। डीसी के निर्देश पर एसडीओ महेन्द्र कुमार ने निजी स्कूलों के संचालको के साथ बैठक कर ऐसे छात्रों जिनके अभिभावक की मृत्यु कोरोना के कारण असमय हो गई थी। वैसे छात्रों से स्कूल फीस नहीं लेने के संबंध में दिशा निर्देश दिया। एसडीओ ने कहा कि अभिभावक को खोने के बाद बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए हमें अपना समाजिक दायित्व निर्वाह करना है। बैठक में सभी स्कूल संचालकों ने ऐसे बच्चों से फीस नहीं लेने पर सहमति दी।

जिले में 24 बच्चें किए गए है चिंहित

कोविड के कारण अपने अभिभावक को खो चुके बच्चों को जिला प्रशासन के द्वारा चिंहित किया गया है। प्रशासन के द्वारा अबतक 24 बच्चों को चिंहित किया गया है जो जिले के विभिन्न निजी स्कूलों में पढ़ते है। इसमें संत मेरीज इंग्लिश मेडियम से चार, केंद्रीय विद्यालय से तीन, संत अन्ना मवि से एक, ब्रिलिएंटस हाई स्कूल मतरामेटा से एक, साईमन तिग्गा उवि से एक, होली फैमिली स्कूल कुरडेग से एक, डीएवी स्कूल से तीन, सेंट्रल एकाडमी से एक, उर्सूलाईन कांवनेंट सामटोली से तीन, आरसी पीएस तुमडेगी से एक, जोनाथन मेमोरियल सेवई से दो, संत जोंस स्कूल फरसाबेड़ा से एक, यूसी रेंगारिह से एक और संत पियुष इंटर कॉलेज रेंगारहि से एक छात्र शामिल है।

epaper

संबंधित खबरें