Development of the area is possible only with the development of tribal-native people Arjun Munda - आदिवासी-मूलवासी के विकास से ही क्षेत्र का विकास संभव: अर्जुन मुंडा DA Image
14 दिसंबर, 2019|5:21|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आदिवासी-मूलवासी के विकास से ही क्षेत्र का विकास संभव: अर्जुन मुंडा

default image

बानो विकास के मामले में पीछे नहीं रहेगा। जो भी आवश्यकता है उसे पूरा करने का प्रयास किया जायेगा। उक्त बातें वुधवार को बानो प्रखंड के जयपाल सिंह मैदान में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कही। उन्‍होंने त़ोरपा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी कोचे मुंडा के पक्ष में वोट देने की भी अपील की। अर्जुन मुंडा ने कहा कि राज्य और केंद्र में भाजपा की सरकार रहेगी। तभी लोगों का सर्वांगीण विकास होगा। भाजपा के पांच साल की सरकार में सड़क, पुल और बिजली उपलब्ध करायी गयी है। अब लोगों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने की बारी है। उन्होंने कहा झारखंड आदिवासी क्षेत्र है। आदिवासियों व मूल वासियों के विकास से ही क्षेत्र का विकास होगा। झारखंड राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार रहेगी। तो केंद्र से मिलने वाली योजनाएं भी सही रूप से मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि किसानों को अधिकार दिलाने का समय आ गया है। किसानों के सम्मान के लिए भी पहल किया जाएगा। बाऩो में लोगों ने ट्रेन ठहराव के बारे बात किये हैं। इसके लिए रेल मंत्री से बात कर के रेल ठहराव का प्रयास किया जाएगा। वहीं असम के सांसद दिलीप कुमार सैकया ने कहा कि झारखंड व असम एक जैसे है। दोनों राज्यों में आदिवासियों द्वारा राज्य के विकास में योगदान दिया गया है। झारखंड के 100 साल पहले गये लोगो मे आज असम से तीन सांसद दिल्ली गये हैं। उन्होंने त़ोरपा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी कोचे मुंडा को भारी मतों से विजयी बनाकर रांची विधानसभा भेजने का अनुरोध किया। इस अवसर पर शिवराज बड़ाईक,अजीत तोपनो, गंगा सिंह, भूषण साहू ,घनश्याम सिंह पन्नालाल ओहदार,बलराम सिंह, विकास साहू ,तिलक सिंह, पूर्व मुखिया विश्वनाथ बड़ाईक, चंद्रपाल सिंह, प्रकाश सिंह भुइयां, रुपेश बड़ाईक, ललित बड़ाईक, अजय बड़ाईक के अलावा अन्य लोग उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Development of the area is possible only with the development of tribal-native people Arjun Munda