DA Image
25 नवंबर, 2020|10:26|IST

अगली स्टोरी

मृत्यु अंत नहीं, एक नए जीवन की शुरुआत: फा. बर्बट

default image

पुरोहित फा बर्बट कुजूर ने कब्र पर्व की पुर्व संध्‍या पर कहा कि मृत्‍यु अंत नहीं बल्कि वहां से एक नए जीवन की शुरुआत होती है। इसका अंत नहीं होता है। उन्‍होंने कहा कि मृत्‍यु के बाद हम ईश्‍वर की महिमा के सहभागी होते है, जिसके लिए हम बनाए गए है। इसी कारण हम सदैव अपने पूर्वजों के ऋणी हैं। मृत विश्वासियों का यह पर्व हमें अपने पूर्वजों का आभार प्रकट करने और पुण्य कामाने का अवसर प्रदान करता है। उन्होंने कहा ईश्वर द्वारा प्रदत्त यह जीवन अनमोल और पवित्र है। लेकिन मानव का जीवन क्षण भंगुर है। इसलिए अपने जीवन के पवित्रता को बनाए रखने के लिए ईश्वर को अपने करीब लाने की आवश्यकता है। पर्व का यह अवसर हमें अपने को पूर्वजों के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने और प्रार्थना के बल ईश्वर के करीब लाने का अवसर प्रदान करता है।

कब्रिस्तानों में आज होगी मिस्सा पूजा :

जिले में दो नवंबर को कब्र पर्व सादगी के साथ मनाया जाएगा। पर्व को लेकर खी्रस्तीय धर्मावलंबियों ने अपने अपने स्तर से तैयारी लगभग पूरी कर ली है। पर्व के मौके पर कब्रिस्तानो में सोशल डिस्‍टेंसिंग के साथ मिस्सा पूजा का आयोजन किया जाएगा। बताया गया कि मरियमपुर और सुंदरपुर कब्रिस्‍तान, सामटोली क्रब्रिस्तान, डिप्‍टीटोली, हेलेनपुर, कुबी टोली, सलडेगा कब्रिस्‍तान आदि कब्रिस्‍तानों में भी मिस्‍सा पूजा का आयोजन किया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Death is not the end the beginning of a new life Fa Burbat