DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खरसावां की रथयात्रा में 55 हजार रुपये होगा खर्च

खरसावां में सरकारी खर्च पर होने वाली महाप्रभु जगन्नाथ की रथयात्रा की तैयारी को लेकर पूजा समिति की बैठक खरसावां अंचल कार्यालय में की गई। बैठक की अध्यक्षता अंचल अधिकारी दयानंद प्रसाद जायसवाल ने की। बैठक में निर्णय लिया गया कि पंचांग तिथि के अनुसार 25 जून को महाप्रभु जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाएगी। बढ़ती मंहगाई को देखते हुए पूजा समिति ने सरकारी रथयात्रा के खर्च को 50 हजार से बढ़ाकर 55 हजार कर दिया। पिछले वर्ष नेत्र उत्सव के पूजा-अर्चना में 11 हजार रुपये हुए थे, जिसे बढ़ाकर 14 हजार कर दिया गया। मौसीबाडी की पूजा-अर्चना में खर्च 20 हजार रुपये ही रखा गया है, जबकि लाइट की व्यवस्था का खर्च छह से बढ़ाकर सात हजार कर दिया गया है। इसके अलावा प्रसाद का खर्च साढ़े छह से बढ़ाकर साढ़े सात हजार रुपये किया गया। संकीर्तन में खर्च ढाई हजार से बढ़ाकर तीन हजार किया जाएगा। रथ मरम्मत का खर्च एक से बढ़ाकर साढ़े तीन हजार रुपये किया जाएगा। मंहगाई को देखते हुए प्रत्येक वर्ष खर्च में वृद्धि की जा रही है। बताया गया कि नौ जून को देव स्नान पूर्णिमा, 23 जून को नेत्र उत्सव, 25 जून को रथयात्रा तथा तीन जुलाई को बाहुड़ा रथयात्रा निकाली जाएगी। बैठक में निर्णय लिया कि महाप्रभु जगन्नाथ की रथयात्रा के दौरान अस्पताल खुला रखने, रथयात्रा के मार्ग पर बिजली तार खोलने, टेलीफोन तारों को हटाने, जगह-जगह सुरक्षा व्यवस्था के लिए जवानों की तैनाती करने, इसके अलावे प्रसाद की तैयारी, पूजा-अर्चना व लाइटिंग की व्यवस्था की जिम्मेदारी भी दी गई। बैठक में सीडीपीओ सुप्रिया शर्मा, अमित कुमार, सुशील षाड़ंगी, जीतवाहन मंडल, राकेश दास, गोवर्द्धन राउत, सुमंत महंती आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rath Yatra will cost Rs 55 thousand