DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘100 डायल पर नहीं पहुंची पुलिस

मुसीबत में फंसा शहर का एक परिवार रात में 100 डायल पर पुलिस को सूचना देकर मदद की गुहार लगाई। लेकिन पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। ऐसी स्थिति में रात भर इस परिवार को दहशत में गुजारनी पड़ा। यह वाकया शहर के सकरूगढ़ एसडीओ कोठी के पास रहने वाले प्रमोद पासवान के परिवार के साथ हुआ। टाटानगर रेल थाना में पदस्थापित एएसआई प्रमोद पासवान के घर उनकी पत्नी व बच्चे थे। रात करीब 1:45 बजे चार से पांच की संख्या में गुंडे आए और दरवाजा पर लात मारने लगे। जब दरवाजा नहीं खुला तो घर पर पथराव करने लगे। श्री पासवान की पत्नी ने पति को फोन पर घटना की जानकारी दी। श्री पासवान ने 100 डायल पर सूचना देने को कहा। 100 डायल पर सूचना दी गई। इसके बाद जिरवाबाड़ी ओपी पुलिस को उनलोगों ने फोन किया। इसके बावजूद पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। सुबह तीन बजे तक परिवार के लोग परेशान रहे। श्री पासवान कुछ समय पहले तक यहां रेल इंस्पेक्टर कार्यालय में बतौर साक्षर पुलिस पदस्थापित थे। उन्होंने दूरभाष पर बताया कि कुछ महीने पहले भी उनके घर के मुख्य द्वार का ताला तोड़ने का प्रयास हुआ था। दरअसल, अपराध नियंत्रण के इरादे से 100 डायल को पूरे तामझाम के साथ लागू किया गया था। पुलिस ने उस वक्त दावा किया था कि 100 डायल में सूचना देने के 10 मिनट के भीतर पुलिस आपके द्वार पहुंचेगी। इस घटना के बाद से पुलिस की ताजा व्यवस्था 100 डायल पर सवाल उठने लगा है। इसबीच प्रभारी एसपी ललन प्रसाद ने बताया कि उन्हें इसकी सूचना नहीं है। फिर भी मामले की जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Police not reaching '100' dial