DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › साहिबगंज › सोशल मीडिया पर अफवाह व भ्रामक खबरें फैलाने वालों पर पैनी नजरल / मंडप में और उसके आसपास कोई स्वागत द्वार/तोरण द्वार नहीं बनाया जाएगा।िसी भी अन्य शर्तों का पालन करना अनिवार्य होगा।
साहिबगंज

सोशल मीडिया पर अफवाह व भ्रामक खबरें फैलाने वालों पर पैनी नजरल / मंडप में और उसके आसपास कोई स्वागत द्वार/तोरण द्वार नहीं बनाया जाएगा।िसी भी अन्य शर्तों का पालन करना अनिवार्य होगा।

हिन्दुस्तान टीम,साहिबगंजPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 09:20 PM
सोशल मीडिया पर अफवाह व भ्रामक खबरें फैलाने वालों पर पैनी नजरल / मंडप में और उसके आसपास कोई स्वागत द्वार/तोरण द्वार नहीं बनाया जाएगा।िसी भी अन्य शर्तों का पालन करना अनिवार्य होगा।

साहिबगंज। दुर्गा पूजा पर विधि व्यवस्था को लेकर जिलास्तर पर शांति समिति की बैठक समाहरणालय सभागार में सोमवार को डीसी रामनिवास यादव की अध्यक्षता में हुई। बैठक में मुख्यरूप से एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा उपस्थित थे। बैठक में सभी पदाधिकारियों व तकनीकी सेल के पदाधिकारियों से सोशल मीडिया पर पैनी नजर रखने का निर्देश दिया। डीसी ने आमलोगों से सोशल मीडिया पर अफवाहों व भ्रामक खबर का समर्थन नहीं करने का अपील किया है। कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार के निर्देशों को सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया। असामाजिक तत्वों के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 107 की कार्रवाई करने का निर्देश दिया। डीसी ने स्पष्ट कहा कि पर्व के आयोजन के दौरान कहीं से भी अगर दिशा-निर्देशों के उल्लंघन से संबंधित मामला सामने आता है तो संबंधित पर एफआईआर दर्ज आपदा प्रबंधन अधिनियम की सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी। प्रतिमा विसर्जन के जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित की गई स्थल पर शांतिपूर्ण तरीके से किया जाएगा। बैठक में एसडीओ ने राज्य सरकार के गाइडलाइन की जानकारी दी। कोरोना संक्रमण का प्रसार नहीं हो इस उद्देश्य से पंडाल में प्रसाद व भोग का वितरण की अनुमति नहीं दी गई है। इस पर जिला प्रशासन का कोई प्रतिबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का इस संबंध में स्पष्ट दिशा-निर्देश है कि पंडाल में या उसके आसपास कोई सामुदायिक आयोजन या भीड़ एकत्रित कर भोग का वितरण नहीं किया जाना है। डीडीसी प्रभात कुमार बरदियार, डीएफओ मनीष तिवारी, अपर समाहर्ता अनुज कुमार प्रसाद, राजमहल एसडीओ रोशन शाह, सीएस डॉ अरविंद कुमार समेत अन्य थे।

क्या है गाइडलाईन

दुर्गा पूजा विशेष रूप से बनाए गए छोटे पंडालों या मंडपों में की जा सकती है। कंटेनमेंट जोन के बाहर पूजा पंडाल के निर्माण की अनुमति है।

दुर्गा पूजा पंडाल / मंडप सभी तरफ से बैरिकेडिंग किया जाएगा और आगंतुकों के प्रवेश को रोकने के लिए तीन तरफ से कवर किया जाएगा । भक्त बैरिकेड्स के बाहर दूर से ही दर्शन कर सकते हैं।

पंडाल / मंडप का निर्माण किसी विषय(थीम) पर नहीं किया जाएगा।

पूजा पंडाल / मंडप के आसपास के क्षेत्र में प्रकाश द्वारा कोई सजावट नहीं की जाएगी। सुरक्षा के दृष्टिकोण से आवश्यक प्रकाश व्यवस्था की अनुमति है।

पूजा पंडाल / मंडप में और उसके आसपास कोई स्वागत द्वार/तोरण द्वार नहीं बनाया जाएगा।

प्रतिमा स्थापना स्थल को छोड़कर शेष पंडाल का स्थान खुला रहेगा।

मूर्ति का आकार पांच फीट से अधिक नहीं होना चाहिए।

ध्वनि विस्तारक / माईक का उपयोग ध्वनि प्रदूषण (विनियमन और नियंत्रण) नियम, 2000 के अनुपालन में मंत्र/पाठ/आरती के सीधा प्रसारण के लिए अनुमति दी जा सकती है। सार्वजनिक संबोधन प्रणाली के माध्यम से टेप/ऑडियो/डिजिटल रिकॉर्डिंग का कोई प्रसारण नहीं किया जाएगा।

पूजा पंडाल में उपस्थित रहने वाले सभी पूजा समिति के सदस्य/ पुजारी/स्वयंसेवक यह सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें कम से कम एक वैक्सीन लग गया है।

दुर्गा पूजा पर कोई मेला आयोजित नहीं किया जाएगा।

दुर्गा पूजा पंडाल/ मंडप में और उसके आसपास कोई भी फूड स्टॉल नहीं खोला जाएगा।

एक समय में दुर्गा पूजा पंडाल/मंडप में आयोजकों, पुजारियों और सहयोगी स्टाफ सहित 25 से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं होंगे।

विसर्जन जुलूस नहीं होगा। मूर्तियों को इस प्रयोजन के लिए जिला प्रशासन द्वारा अनुमोदित स्थान (स्थानों) पर विसर्जित किया जाएगा।

कोई संगीतमय या कोई अन्य मनोरंजन/ सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं होगा।

कोई सामुदायिक भोज/प्रसाद या भोग वितरण समारोह आयोजित नहीं किया जाएगा । प्रसाद की होम डिलीवरी पर कोई रोक नहीं है।

आयोजकों/पूजा समितियों द्वारा किसी भी प्रकार का कोई आमंत्रण जारी नहीं किया जाएगा।

पंडाल / मंडप के उद्घाटन के लिए कोई सार्वजनिक समारोह/कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाएगा।

पंडाल निर्माण के लिए किसी भी तरह की सड़क जाम नहीं की जाएगी।

किसी भी सार्वजनिक स्थान पर गरबा/डांडिया कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाएगा।

सार्वजनिक स्थान पर रावण का पुतला नहीं जलाना चाहिए क्योंकि इससे भारी भीड़ उमड़ती है।

सार्वजनिक स्थानों पर फेस कवर / मास्क पहनना अनिवार्य है।

पंडाल में 18 वर्ष से कम आयु के व्यक्तियों को उपस्थित नहीं होना चाहिए।

सार्वजनिक स्थानों पर न्यूनतम 6 फीट की दूरी बनाये रखना आवश्यक है।

पूजा पंडाल / मंडप में उपस्थित होने वाले व्यक्ति केंद्र/राज्य सरकार/जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क के उपयोग, व्यक्तिगत स्वच्छता और स्वच्छता के सभी कोविड-19 प्रोटोकॉल का अक्षरश: पालन करेंगे।

पूजा का आयोजन करने वाले पूजा कमेटी सदस्यों एवं आयोजन में शामिल अन्य व्यक्तियों को जिला प्रशासन/ सक्षम प्राधिकारी द्वारा लगाई गई किसी भी अन्य शर्तों का पालन करना अनिवार्य होगा।

दंडात्मक प्रावधान

उपरोक्त गाइडलाइन का उल्लंघन करने वाले किसी भी व्यक्ति या पूजा समिति पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 के प्रावधानों के अनुसार कार्यवाही की जा सकती है। आई.पी.सी की धारा 188 एवं अन्य सुसंगत कानूनी प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जायेगी।

जिला कंट्रोल रूम नंबर

6287590758

9006963963

06436356485

06436222100

डीसी की अपील

डीसी रामनिवास यादव ने लोगों से कहा कि सौहार्दपूर्ण वातावरण व कोविड-19 गाइडलाइन के अनुसार ही दुर्गा पूजा उत्सव मनाएं। कोरोना संक्रमण अब तक पूरी तरह से टला नहीं है। लोगों को सुरक्षा का खास ख्याल रखना है। लोग पुलिस और जिला प्रशासन का सहयोग करें। उन्होंने जिलेवासियों से कहा कि दुर्गा पूजा के दौरान सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार के अफवाह या भ्रामक खबरों का समर्थन ना करें।

संबंधित खबरें