DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करोड़ों परिवार का जीवनयापन गंगा पर निर्भर

करोड़ों परिवार का जीवनयापन गंगा पर निर्भर

विश्व पर्यावरण दिवस पर बुधवार से सप्ताहव्यापी कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। कार्यक्रम का समापन पांच जून को होगा। मौके पर साहिबगंज प्रखंड के सकरीगली गंगा घाट पर जिलास्तरीय कार्यक्रम हुआ। उद्घाटन स्थानीय विधायक अनंत कुमार ओझा, डीसी संदीप सिंह, डीडीसी नैंसी सहाय व डीएफओ मनीष तिवारी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। मौके पर विधायक श्री ओझा ने कहा कि बदलते परिवेश में पर्यावरण को प्रदूषणमुक्त बनाना बेहद आवश्यक है। प्रत्येक नागरिक का दायित्व है कि वह अपने आस-पड़ोस के वातावरण को स्वच्छ व शुद्ध रखे एवं गंदगी न फैलाएं। विधायक ने कहा कि गंगा की धारा को स्वच्छ, निर्मल, अविरल बनाए रखने के लिए आमजन की भागीदारी जरूरी है।

उन्होंने कहा कि हम लोग जन्म से मृत्यु तक मां गंगा की छत्रछाया में बिताते हैं। हमारी परम्परा रही है हम घर का कोई भी शुभ कार्य गंगा जल का उपयोग से करते हैं। करोड़ों लोगों की आस्था इस पवित्र गंगा नदी से जुड़ी है । करोड़ों परिवारों का जीवनयापन गंगा की कृपा पर निर्भर करता है। मौके पर डीसी संदीप सिंह ने कहा कि इस साल की थीम ‘बिट्स प्लास्टिक पॉल्यूशन बेहद ही महत्वपूर्ण है। प्लास्टिक के कचड़े से होने वाला प्रदूषण पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा है । इसीलिए इसका समुचित निष्पादन आवश्यक है। डीसी ने कहा कि यह सौभाग्य झारखंड में केवल साहिबगंज जिले को ही प्राप्त है कि यहां गंगा प्रवाहित होती है। उन्होंने जनता से अपील कि की इसे लोग गंदा न कर, इसकी साफ-सफाई के लिए समय-समय पर श्रम दान करें। मौके पर साहिबगंज कॉलेज के व्याख्याता व सिंडिकेट सदस्य डॉ. रंजीत कुमार सिंह, बीडीओ प्रतिमा कुमारी, सीओ राम नरेश सोनी समेत सेल्फ ग्रुप की महिलाएं, ग्रामीण, एनएसएस के वालंटियर्स, साहिबगंज कॉलेज के छात्र-छात्राएं आदि उपस्थित थे।

विधायक ने लगाए 10 पौधे : मुख्य अतिथि विधायक अनंत कुमार ओझा ने सकरीगली गंगा घाट पर 10 पौधरोपण किया । कार्यक्रम में विधायक ने स्वच्छता की शपथ दिलाई।

श्रमदान कर की गई सफाई : अतिथियों एवं ग्रामीणों ने श्रमदान कर गंगा घाट व आसपास की सफाई की। डीसी ने लोगों से नियमित रूप से अपने आसपास की सफाई की अपील की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Crores of families depend on Ganga