DA Image
6 अगस्त, 2020|7:26|IST

अगली स्टोरी

आदिवासी सामाजिक संगठनों ने मनाया हूल दिवस

default image

आदिवासी-मूलवासी सामाजिक और धार्मिक संगठनों ने मंगलवार को 1855 के संताल क्रांति को याद करते हुए हूल दिवस मनाया। इस अवसर पर हूल क्रांति के शहीदों सिदो-कान्हू, चांद-भैरव के अलावा फूलो-झानो को श्रद्धासुमन अर्पित किया और उनके बताए मार्ग में चलने को लेकर संकल्प लिया गया। हूल दिवस के अवसर पर संगठनों ने लॉकडाउन को देखते हुए सादगी से समारोह का आयोजन की। इस अवसर पर सिदो-कान्हू सहित अन्य हूल क्रांति के शहीदों की प्रतिमा और तस्वीर पर माल्यार्पण किया गया।

जय आदिवासी केंद्रीय परिषद ने वीर तिलक लगाया

जय आदिवासी केंद्रीय परिषद की ओर से स्वतंत्रता संग्राम के आदिवासी महानायकों को याद करते हुए सिदो-कान्हू पार्क में दोनों शहीदों की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही चांद-भैरव, रूनिया-झुनिया के अलावा 50 हजार वीर-वीरांगनाओं को स्मरण किया। परिषद के चंदन हलधर पहान ने प्रतिमाओं पर जल चढ़ाया और वीर तिलक लगाते हुए तेल, सिंदूर सहित पुष्प अर्पित की। इसी क्रम में परिषद के अन्य लोगों ने प्रतिमा पर माथा टेका और उनके बलिदानों का जयघोष लगाया। परिषद ने शहीदों के परिजनों को वीर चक्र,शौर्य चक्र से सम्मानित करने अलावा परिजनों को सुरक्षा देने, सुविधा मुहैया कराने, ऐतिहासिक स्थलों का निर्माण कराने, शैक्षणिक, चिकित्सा, खेलकूद संस्थानों का नामकरण इन शहीदों के नाम से करने की मांग की गई। मौके पर निरंजना हेरेंज, मुन्ना टोप्पो, जयंत टोप्पो, उमेश मुंडा, चंचल मुंडा, सुनिल मुंडा, सुरेंद्र पासवान, उमेश रजक, श्रीकांत बाड़ा, रिंकू कच्छप, ज्ञानदीप उरांव, प्रिंस मुंडा सहित अन्य शामिल थे।

केंद्रीय आदिवासी मोर्चा ने हूल दिवस मनाया

केंद्रीय आदिवासी मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने सिदो-कान्हू पार्क में हूल दिवस मनाया। मोर्चा के महासचिव अलबीन लकड़ा ने कहा कि शहीदों को नमन करने के अलावा वीर महापुरुषों के सपनों को भी समृद्ध करना है और सशक्त झारखंड बनाने की जरूरत है। मौके पर कुलदीप तिर्की, विकास तिर्की, मनोज सांगा, मुक्ति, अम्बर, अमरदीप, जेवियर लकड़ा सहित अन्य शामिल थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Tribal social organizations celebrated Hul Day