DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  बैठक नहीं बुलाने पर डीसी के खिलाफ मेयर ने हाईकोर्ट में दायर की याचिका

रांचीबैठक नहीं बुलाने पर डीसी के खिलाफ मेयर ने हाईकोर्ट में दायर की याचिका

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Wed, 08 Jul 2020 08:54 PM
बैठक नहीं बुलाने पर डीसी के खिलाफ मेयर ने हाईकोर्ट में दायर की याचिका

मेयर आशा लकड़ा ने डीसी राय महिमापत रे पर लोकतांत्रिक व्यवस्था की धज्जियां उड़ाने का आरोप लगाया है। मेयर ने कहा कि आपदा प्रबंधन अधिनियम एक्ट के तहत लोकल ऑथोरिटी की बैठक बुलाने के लिए डीसी को चार बार पत्र लिखा, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला, जवाब नहीं मिलने पर अंतिम पत्र में बैठक नहीं बुलाने सहित छह बिंदुओं पर डीसी से 48 घंटे में जवाब मांगा। फिर भी डीसी ने कोई जवाब नहीं दिया। डीसी के कार्यशैली से स्पष्ट होता है कि वे मेयर पद को तनिक भी सम्मान नहीं देते है। अपने संवैधानिक अधिकारों की रक्षा, राजधानी के विकास काम में डीसी के गतिरोध को देख उन्होंने अपने वकील के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दायर की है।शहर को सील मुक्त करने पर नहीं ली कोई सलाहमेयर ने कहा कि पूरा राज्य और राजधानी इन दिनों कोरोना संक्रमण से जुझ रहा है। फिर भी रांची डीसी ने रांची शहर को कंटेनमेंट जोन मुक्त कर दिया, जो कि काफी दुखद है। सील मुक्त करने से पहले डीसी ने न तो आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत गठित कमिटी की बैठक की, न ही मेयर को इसकी कोई जानकारी दी। मेयर होने के नाते मैं आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत गठित समिति की सह-अध्यक्ष भी हूं, लेकिन डीसी ने एक बार भी राय मशविरा नहीं की।जनप्रतिनिधियों के अधिकारों का हनन किया डीसी नेमेयर ने कहा कि कोरोना संक्रमण को देख लोकल अथॉरिटी की बैठक बुलाने की बात जब भी डीसी से किया गया वे केवल बरगलाते रहे। ऐसा कर डीसी ने जनप्रतिनिधि के अधिकारों का हनन किया। किसी भी पत्र का जवाब नहीं देकर डीसी ने लोकतांत्रिक मर्यादा का हनन किया है।

संबंधित खबरें