The Incarnated Lord Jesus Glee in the Christian Community Christmas dhoom in the City - अवतरित हुए प्रभु यीशु, मसीही समुदाय में उल्लास, शहर में क्रिसमस की धूम DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवतरित हुए प्रभु यीशु, मसीही समुदाय में उल्लास, शहर में क्रिसमस की धूम

घड़ी की सूई टिक-टिक करती जैसे ही रात्रि 12 पर पहुंची। संत मेरीज कैथेड्रल चर्च, संत पॉल्स कैथेड्रल चर्च, जीइएल चर्च समेत अन्य चर्चों के घंटे बज उठे। कैरोल गूंजने लगे। घंटों की आवाज जगह के उद्धारकर्ता प्रभु यीशु मसीह के पृथ्वी पर अवतरित होने का संदेश था। आज एक ऐसा बालक जन्मा है, जो संसार का राजा है। कैरोल गीत जगत और मानव जाति के उद्धारकर्ता प्रभु यीशु के जन्मोत्सव के हैं। यह गाना हर चर्च व आराधनालयों में एक साथ सुनाई दे रहे थे। दिन था प्रभु यीशु के जन्म उत्सव क्रिसमस की अर्द्ध रात्रि प्रार्थना का। वहीं सर्द रात के बावजूद काफी संख्या में मसीही विश्वासी चर्चों में जुटे। जहां पुण्य रात की विशेष प्रार्थना-मिस्सा हुई। 

प्रभु धरती पर मानव को पापों से छुटकारा दिलाने अवतरित हुए हैं। उनके अवतरित होते ही मसीही समुदाय में उल्लास फैल गया। चर्चों में आकर्षक विद्युत सज्जा चालू कर दी गई। इससे ऐसा लगा मानो प्रभु की ज्योति हर मसीही की अंतरात्मा में विराजमान हो गई हो। दूसरी ओर मसीही बहुल इलाकों में क्रिसमस आधारित गीत-संगीत भी बजने लगे। आराधना मिस्सा के बाद प्रभु के जन्मोत्सव की खुशी मनाने के लिए लोगों ने मांदर की थाप और  नगाड़ों की गूंज पर नृत्य भी किया और हैप्पी क्रिसमस और खुश जन्म पर्व संबोधित कर एक-दूसरे को क्रिसमस की बधाई दी। यह सिलसिला देर रात तक चला। रांची के चारों ओर हिंदी और नागपुरी क्रिसमस गीतों की ध्वनि पूरी रात पर बजती रही। पूरा शहर क्रिसमस के उल्लास में शरीक हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The Incarnated Lord Jesus Glee in the Christian Community Christmas dhoom in the City