DA Image
23 जुलाई, 2020|11:03|IST

अगली स्टोरी

खूंटी डीएससी पर कार्रवाई नहीं हुई तो शिक्षक करेंगे तालाबंदी

default image

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ प्रदेश अध्यक्ष बिजेंद्र चौबे, महासचिव राममूर्ति ठाकुर व मुख्य प्रवक्ता नसीम अहमद ने संयुक्त रूप से कहा कि क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक दक्षिणी छोटनागपुर मिथिलेश सिन्हा की अदालत में 25 जुलाई को खूंटी जिला शिक्षा अधीक्षक महेंद्र पांडेय मामले की सुनवाई है। इसमें 300 शिक्षकों पर की जा रही दमनात्मक कार्रवाई, दुर्व्यवहार की जांच होगी। बावजूद इसके फिर से नए सिरे से पांच शिक्षकों से जिला शिक्षा अधीक्षक द्वारा स्पष्टीकरण पूछने का मामला सामने आ रहा है। डीएसई खूंटी द्वारा शिक्षक संजय कंडूलना, रवि रमन त्रिपाठी, आभा लकड़ा, चिंता पांडेय और पूनम खलखो पर 18 व 19 जुलाई को प्रिंट मीडिया में नियुक्ति पदाधिकारी के खिलाफ गलत खबर प्रकाशन कराने और सोशल मीडिया में झूठी खबर वायरल करने को लेकर शो कॉज किया है। संघ ने इस पर कहा कि कि जब सभी मामले आरडीडी के यहां चल रहा है और 25 जुलाई को सुनवाई है तो फिर से खूंटी डीएसई महेंद्र पांडेय द्वारा स्पष्टीकरण मांगना व अखबार में विज्ञापन द्वारा नोटिस जारी करना कहां तक उचित है। इससे जाहिर है शिक्षकों से बदले की भावना से वह काम कर रहे हैं।संघ ने कड़ी निंदा करते हुवे तत्काल उनपर कार्रवाई करने की मांग की है। संघ के नेताओ ने कहा कि जिला शिक्षा अधीक्षक के दुर्व्यवहार से शिक्षकों में भारी आक्रोश है। यदि उन्हें तत्काल नहीं हटाया गया तो स्थिति कभी भी विस्फोटक हो सकती है। संगठन को कोरोना कि इस अवधि में भी आंदोलन को बाध्य होना पड़ेगा और अनिश्चित काल तक जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय खूंटी में तालाबंदी की जाएगी ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Teachers will lockout if Peg DSC is not processed