DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  हार्ट में लगा स्टेंट, कूल्हा टूटा, कोरोना संक्रमित हुई पर हौसले से दी मात

रांचीहार्ट में लगा स्टेंट, कूल्हा टूटा, कोरोना संक्रमित हुई पर हौसले से दी मात

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Fri, 14 May 2021 03:01 AM
हार्ट में लगा स्टेंट, कूल्हा टूटा, कोरोना संक्रमित हुई पर हौसले से दी मात

रांची। संवाददाता

मेकॉन की रहने वाली 79 वर्षीय मंजू सिन्हा हृदय रोगी हैं। 14 अप्रैल को इनका कुल्हा भी टूट गया। आनन फानन में बेटी दामाद ने इन्हें जगरनाथ अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद 15 अप्रैल को ये पॉजिटिव पायी गयीं। 18 दिनों तक टूटे कूल्हे के साथ कोविड वार्ड में सिर्फ दवाइयों के सहारे रहीं। पर इनके हौसले के आगे सारी परेशानियां पस्त होती चली गईं। कोविड वार्ड में रहने के दौरान डॉक्टरों से हमेशा पूछती रहीं की मेरा ऑपरेशन कब होगा। ऐसे वक्त में जब युवा सिर्फ कोरोना से घबरा कर जान गंवा दे रहे हैं। मजबूत दिखने वाले युवा डर से कमजोर हो रहे हैं, उसी दौरन ढलती उम्र की ये मानसिक मजबूती और ठीक होने का जज्बा कोरोना में दूसरे संक्रमितों को हौसला देता रहा। 10 मई को इनका ऑपेरशन हुआ और अब ये पूरी तरह ठीक हैं। ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर डॉ सुधीर कुमार ने बताया कि इतनी पॉजिटिविटी बहुत ही कम लोगों में देखा जाता है। इनके हौसले ने कोविड वार्ड में मौजूद कई मरीजों को मानसिक मजबूती प्रदान की। यह जल्द ही सहारे पर चलने लगेंगी। महिला मंजू सिन्हा ने बताया कि ऑपरेशन के दौरान अच्छा लग रहा था, अब थोड़ी परेशान हूँ पर ये सिर्फ एक दो दिनों की बात है।

डॉ सुधीर कुमार ने बताया कि ऐसा ऑपरेशन बहुत सामान्य है। पर, 79 वर्ष की उम्र में कोरोना से ठीक होने के तुरंत बाद थोड़ा जटिल था। लेकिन जब ऐसी मजबूत महिला का इलाज करना हो तो जटिल कुछ नहीं रहता। डॉ सुधीर ने कहा कि इनके ईलाज में डॉ निलय का बहुत योगदान है। साथ ही डॉ बरला और डॉ प्रशांत का इनके ईलाज में महत्वपूर्ण योगदान है।

संबंधित खबरें