DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  बाबूलाल मरांडी, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की का मामला पहुंचा स्पीकर न्यायाधिकरण
रांची

बाबूलाल मरांडी, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की का मामला पहुंचा स्पीकर न्यायाधिकरण

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Thu, 20 Aug 2020 08:21 PM
बाबूलाल मरांडी, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की का मामला पहुंचा स्पीकर न्यायाधिकरण

चुनाव आयोग से भाजपा विधायक के तौर पर स्वीकृति मिलने के बाद अब बाबूलाल मरांडी को विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की मान्यता का मामला स्पीकर न्यायाधिकरण में पहुंच गया है। झारखंड विधानसभा अध्यक्ष ने झाविमो की टिकट पर 2019 में विधानसभा चुनाव जीते तीनों विधायकों बाबूलाल मरांडी, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की को नोटिस जारी किया है।

तीनों को 17 तक अपना पक्ष रखने को कहा गया है। मामले में सुनवाई स्पीकर न्यायाधिकरण में होगी। उल्लेखनीय है कि पिछले विधानसभा चुनाव के बाद बाबूलाल मरांडी ने झाविमो का विलय भाजपा में कर दिया। इसका विरोध करने पर दो अन्य विधायकों प्रदीप यादव और बंधु तिर्की पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। बाद में दोनों ने कांग्रेस की सदस्यता ली। चुनाव आयोग ने बाबूलाल मरांडी को चुनाव जपा विधायक के रूप में स्वीकृति दी और प्रदीप यादव व बंधु तिर्की को निर्दलीय विधायक माना। अब दसवीं अनुसूचित के तहत मामले में सुनवाई होगी।

दसवीं अनुसूचित दल बदल से जुड़ा है। पिछली विधानसभा में झाविमो के टिकट पर जीते छह विधायक दल बदलकर भाजपा में शामिल हो गए थे। तब दोनों पक्षों की सुनवाई लगभग साढ़े चार साल चली। तत्कालीन स्पीकर डॉ. दिनेश उरांव ने फैसला विधायकों के पक्ष में सुनाया। इस मामले को बाबूलाल मरांडी ने ही स्पीकर न्यायाधीकरण के समक्ष उठाया था। इस बार बाबूलाल भाजपा के साथ हैं। उन्हें भाजपा विधायक दल का नेता भी चुना गया है। विधानसभा के बजट सत्र में बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष घोषित करने को लेकर भाजपा ने काफी दबाव बनाया। विरोध-प्रदर्शन भी किए और कई बार सदन की कार्रवाही स्थिगित करनी पड़ी। भाजपा इस मामले को राज्यपाल के समक्ष भी रख चुकी है। राज्यपाल मामले की जानकारी स्पीकर से ले चुकी हैं।

संबंधित खबरें