ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड रांचीसीता सोरेन का विधायक पद से इस्तीफा मंजूर

सीता सोरेन का विधायक पद से इस्तीफा मंजूर

पार्टी बदलने के बाद विधानसभा अध्यक्ष रबीन्द्रनाथ महतो को सीता सोरेन ने इस्तीफा भेजा था। विधानसभा सचिवालय के मुताबिक इस्तीफा सही माध्यम से नहीं भेजा...

सीता सोरेन का विधायक पद से इस्तीफा मंजूर
हिन्दुस्तान टीम,रांचीFri, 14 Jun 2024 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरो
झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) से भाजपा में शामिल हुईं पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन की बड़ी बहू जामा विधायक सीता सोरेन का इस्तीफा झारखंड विधानसभा अध्यक्ष रबींद्र नाथ महतो ने स्वीकार कर लिया है। उनका इस्तीफा 19 मार्च 2024 की तारीख से स्वीकार किया गया है। पार्टी बदलने के बाद विधानसभा अध्यक्ष रबीन्द्रनाथ महतो को सीता सोरेन ने इस्तीफा भेजा था। विधानसभा सचिवालय के मुताबिक इस्तीफा सही माध्यम से नहीं भेजा गया था। उन्होंने अपने पुत्री के ई-मेल आइडी से इस्तीफा प्रेषित किया था, जिसे विधानसभा अध्यक्ष ने स्वीकार नहीं किया। नियम के मुताबिक उन्हें अधिकृत ई-मेल आइडी के जरिए इस्तीफा भेजना था। इसके अलावा वह स्वयं या विशेष दूत के माध्यम से त्यागपत्र भेज सकती थीं। विधानसभा सचिवालय ने उन्हें इस संबंध में सूचित करते हुए सही माध्यम से इस्तीफा भेजने को कहा था। अब सीता सोरेन ने झारखंड विधानसभा को पूर्व में भेजे गए मेल को आधिकारिक मान कर स्वीकार करने का आग्रह किया, जिसे स्वीकार कर लिया गया है। ज्ञात हो कि भाजपा में शामिल होने के बाद झामुमो ने सीता सोरेन को दल से निलंबित कर दिया था। सीता सोरेन ने दुमका संसदीय सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा। उन्हें झामुमो उम्मीदवार नलिन सोरेन ने पराजित कर दिया।

झारखंड विधानसभा में अब दलीय स्थिति को देखें तो कल्पना सोरेन को शामिल कर झामुमो के 27, बाबूलाल मरांडी को शामिल कर भाजपा के 24, प्रदीप यादव को जोड़ कर कांग्रेस के 17, आजसू के तीन, राजद के एक, माले के एक, एनसीपी के एक, निर्दलीय दो सदस्य हैं। इस प्रकार झारखंड विधानसभा की 81 में से अब पांच क्षेत्र जामा, शिकारीपाड़ा, बाघमारा, हजारीबाग, मनोहरपुर रिक्त हो गए हैं। भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए मांडू विधायक जेपी पटेल के खिलाफ नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी की ओर से दलबदल की शिकायत की गई है। मामले में पटेल को 28 जून तक अपना पक्ष रखना है। उसके बाद दल-बदल के तहत स्पीकर न्यायाधीकरण में सुनवाई होगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।