DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  आपात स्थिति में अस्पतालों को ऑक्सीजन देंगे संजीवनी वाहन

रांचीआपात स्थिति में अस्पतालों को ऑक्सीजन देंगे संजीवनी वाहन

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Wed, 05 May 2021 03:50 AM
आपात स्थिति में अस्पतालों को ऑक्सीजन देंगे संजीवनी वाहन

रांची। प्रमुख संवाददाता

रांची के सरकारी और निजी अस्पतालों में आपात स्थिति में ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए रांची जिला प्रशासन ने नई योजना बनायी है। इस योजना के तहत आपात स्थिति या विषम परिस्थिति में वाहनों से तत्काल जंबो ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराए जाएंगे। रिम्स के लिए 100 और शहरी स्वास्थ्य केंद्र रिसालदार डोरंडा के लिए 50 सिलेंडर सुरक्षित रखे जाएंगे। जिला प्रशासन ने इसे संजीवनी वाहन कार्यक्रम नाम दिया है। सिलेंडरों की आपूर्ति के लिए तीन वाहनों पर 50-50 सिलेंडर रेडी टू मूव की स्थिति में रहेंगे। यह सेवा 24 घंटे उपलब्ध रहेगी।

उपायुक्त छवि रंजन के अनुसार कोरना संक्रमण का तेजी से प्रसार और मरीजों की संख्या में भारी बढ़ोतरी के देखते हुए जिले के सरकारी और निजी अस्पतालों को कोविड अस्पताल में तब्दील किया गया है। इन अस्पतालों में ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। इसी कड़ी में अस्पतालों को विषम परिस्थिति में तत्काल सिलेंडर की व्यवस्था करने के लिए संजीवनी वाहन कार्यक्रम शुरू किया गया है।

भरे सिलेंडर लेने के बाद तत्काल खाली सिलेंडर देना होगा अस्पतालों को

इस कार्यक्रम के तहत सिर्फ आपात स्थिति से इन वाहनों से सिलेंडर उपलब्ध कराया जाएगा। जिस सरकारी और निजी अस्पताल को जितना जंबो सिलेंडर उपलब्ध कराया जाएगा, उस अस्पताल से तत्काल उतना खाली सिलेंडर लिया जाएगा। जिला परिवहन पदाधिकारी को खाली सिलेंडरों की तत्काल रिफिलिंग कराने की जिम्मेवारी दी गई है। उन्हें रिम्स और शहरी स्वास्थ्य केंद्र के लिए 150 सिलेंडर सुरक्षित रखने की जिम्मेवारी भी दी गई है। इस कार्य के लिए मजिस्ट्रेट और नोडल पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति भी कर ली गई है और तीन वाहनों को भी तैनात किया गया है।

वाहनों को पुलिस की सुरक्षा में पहुंचाया जाएगा अस्पताल

रांची के एमवीआई मुकेश कुमार आपात स्थिति में अस्पतालों को सिलेंडर उपलब्ध कराएंगे। साथ ही इस काम में इस्तेमाल हो रहे वाहन, सिलेंडर की रिफिलिंग आदि का लॉग बुक भी तैयार कराएंगे। सभी कार्यों की मॉनिटरिंग जिला परिवहन पदाधिकारी प्रवीण कुमार करेंगे। एसएसपी को इन वाहनों के सुरक्षित आवागमन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है, ताकि ये वाहन आसानी से और कम समय पर गंतव्य तक पहुंच सकें। विशेष परिस्थिति में एसएसपी को वाहनों को स्कॉट करने का भी निर्देश दिया गया है। इसके लिए पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति करने का निर्देश उपायुक्त को दिया गया है। इस पूरे कार्यक्रम की मॉनिटरिंग उप विकास आयुक्त करेंगे और वह वरीय प्रभार में रहेंगे।

संबंधित खबरें