DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  रिम्स: आउटसोर्सिंग के जरिए हुई बहाली, एजेंसी ने कर्मियों को15 दिन काम कराकर हटाया

रांचीरिम्स: आउटसोर्सिंग के जरिए हुई बहाली, एजेंसी ने कर्मियों को15 दिन काम कराकर हटाया

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 09:20 PM
रिम्स: आउटसोर्सिंग के जरिए हुई बहाली, एजेंसी ने कर्मियों को15 दिन काम कराकर हटाया

रांची। संवाददाता

कोरोना संक्रमण को देखते हुए रिम्स में बेडों की संख्या बढ़ाई गई थी। इन बेडों में मरीजों के समुचित ईलाज के लिए मैनपावर की सप्लाई आउटसोर्सिंग एजेंसी टीएनएम के जरिए की गई थी। आउटसोर्सिंग कंपनी ने 749 लोगों की बहली की थी , लेकिन 15 से 20 दिन काम लेकर इन लोगों को हटा दिया गया है।

कंपनी के माध्यम से बहाल किए गए नित्यानंद ने कहा कि बहाली के समय रिज्यूम को देखा गया। फिर उसी दिन ड्यूटी दे दी गयी। बहाली से पूर्व जॉइनिंग लेटर भी नहीं दिया गया। 15 से 20 दिन काम लेने के बाद अब आउटसोर्सिंग एजेंसी कह रही है कि अब आप लोगों से काम नहीं लिया जाएगा। नित्यानंद ने बताया कि कंपनी कह रही है कि काम के लिए हमारे पास निबंधन नहीं है आप सब घर चले जाएं। इसके बाद काम कर रहे युवक-युवतियों ने रिम्स कैंपस में आउटसोर्सिंग एजेंसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

विरोध के बाद कंपनी के एचआर अभय तिवारी ने कहा कि सिर्फ वैसे लोगों को हटाया जा रहा है जिनके पास वैध डिग्री नहीं है। उन्होंने जितने दिन काम किए हैं उसके बदले पैसे का भुगतान किया जाएगा।

प्राइवेट अस्पतालों में काम छोड़कर किया ज्वाइन

बीएससी नर्सिंग की पूनम कुमारी ने बताया कि 3 महीने से लेकर एक साल तक के लिए एक्सटेंशन की बात कही गई थी। निजी अस्पतालों की नौकरी छोड़कर यहां ज्वाइन की। अब काम से हटा दे रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि एजेंसी ने कोविड प्रोटोकॉल का भी पालन नहीं किया। मास्क ग्लव्स तक नहीं दिए गए। नियुक्ति के दौरान कहा गया था कि 100 दिन यहां काम करने के बाद आगे चल सरकारी नौकरियों में प्राथमिकता दी जाएगी । इसके अलावा सभी को भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कोविड राष्ट्रीय सेवा सम्मान देने की बात कही गयी थी।

इन पदों के लिए बहाल किए गए थे कर्मचारी

नर्सिंग स्टाफ के 396, मल्टी टास्किंग सर्विस के लिए 298, लैब टेक्नीशियन के लिए 44, वेंटिलेटर एनेस्थीसिया टेक्निशियन के छह लोगों को बहाल किया गया था। स्टाफ नर्स-बीएससी नर्सिंग के लिए 16,500 रुपये प्रतिमाह राशि तय की गयी थी। 1 साल के अनुभव प्राप्त लैब टेक्नीशियन की नियुक्ति 12 हजार रुपए प्रतिमाह पर की गयी। वहीं 1 साल के अनुभव के साथ वेंटीलेटर टेक्ने शियन जिसके पास डिप्लोमा इन आईसीयू वेंटिलेटर टेक्नीशियन की डिग्री थी उन्हें 15 हजार रुपए प्रतिमाह की राशि पर बहाल की गई थी।

कोट

आउटसोर्सिंग एजेंसी टीएनएम सर्विस कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड के एचआर अभय तिवारी ने कहा कि जो लोग अयोग्य हैं उन्हें हटाया गया है। जितने दिन काम किए हैं उतनी सैलरी दी जाएगी।

संबंधित खबरें