DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में मैट्रिक का रिजल्ट संशोधित, 50 हजार फेल छात्र पास

jac

झारखंड अधिविद्य परिषद (जैक) ने मैट्रिक का संशोधित रिजल्ट जारी कर दिया है। संशोधित परिणाम गुरुवार देर रात जैक की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया। इस रिजल्ट में 50 हजार फेल छात्रों को अब पास कर दिया गया है। नियमों के उलट भाषा की परीक्षा  में उत्तीर्ण होना अनिवार्य कर दिए जाने के कारण राज्य लगभग 10 फीसदी बच्चे माध्यमिक परीक्षा में फेल हो गए थे।  परीक्षा फल जारी होने के बाद इस बड़ी चूक का खुलासा ‘हिन्दुस्तान’ ने किया था। 

इस साल मैट्रिक में 4,63,311 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। इसमें 2,68,308 बच्चों को सफलता मिली। इस परीक्षा में 1,95,003 बच्चे फेल हो गए। रिजल्ट का प्रतिशत पिछले साल के 67.54 फीसदी से गिरकर 57.91 फीसदी होने पर शिक्षाधिकारियों ने भी आशंका जताई थी। परंतु इसे नजरअंदाज कर दिया गया था। 

क्या है मामला
झारखंड परीक्षा अधिनियम के प्रावधानों के तहत रेगुलेशन 46 (ए) में जिक्र है कि माध्यमिक परीक्षा के दौरान भाषा (हिन्दी-अंग्रेजी) के किसी भी एक विषय में फेल होने पर दूसरी भाषा (संस्कृत आदि) में पास होने पर संबंधित परीक्षार्थी को उतीर्ण घोषित कर दिया जाएगा। परंतु जैक ने ऐसा नहीं किया था और सभी पांच विषयों में पास होना अनिवार्य कर दिया।  इसके कारण 50 हजार छात्र फेल हो गए थे।

कहां हुई चूक
रिजल्ट तैयार कर रही एजेंसी को नियमावली की जानकारी नहीं दी गयी थी। एजेंसी से पांच बेस्ट विषयों पर रिजल्ट देने को कहा गया था। एजेंसी ने सभी पांच बेस्ट विषयों को अनिवार्य करते हुए सीबीएसई की तर्ज पर रिजल्ट जारी कर दिया। इससे 50 हजार से अधिक छात्र फेल हो गए।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Results of matriculation in Jharkhand