DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  पाबंदियों को 10 दिन और लागू रखने की जरूरत : रामेश्वर उरांव

रांचीपाबंदियों को 10 दिन और लागू रखने की जरूरत : रामेश्वर उरांव

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:50 AM
पाबंदियों को 10 दिन और लागू रखने की जरूरत :  रामेश्वर उरांव

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरो

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और राज्य के वित्त व खाद्य आपूर्ति मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने कोरोना संक्रमण का चेन तोड़ने के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के तहत राज्यभर में लागू पाबंदियों के सकारात्मक परिणाम पर संतोष जताया है। उन्होंने पार्टी की ओर से राज्य सरकार से मांग की है कि 27 मई के बाद भी सप्ताह-दस दिनों तक इन पाबंदियों को कुछ शर्त के साथ लागू रखने की जरूरत है। डॉ रामेश्वर उरांव ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा बुलायी गयी कैबिनेट मंत्रियों की वर्चुअल बैठक में पार्टी की ओर से कई अन्य सुझाव भी रखे।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कोरोना संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के तहत लागू की गयी पाबंदियों की सराहना की है। हालांकि इस दौरान लोगों की मौत होने पर कपड़ा दुकान बंद रहने पर कफन खरीदने में हो रही कठिनाईयों का जिक्र करते हुए उन्होंने शर्तों के साथ कुछ छूट देने की भी वकालत की। डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि राज्य में संक्रमण दर में कमी आयी है, लेकिन मृत्यु दर पर अब भी अंकुश नहीं लग पाया गया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में शादी-विवाह और अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में 250 से 500 की भीड़ जमा हो रही है, जबकि राज्य सरकार ने शादी समारोह के लिए सिर्फ 11 लोगों की अनुमति दी है। इसे नियंत्रित करने के लिए कठोर कदम उठाने की जरूरत है।

डॉ उरांव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के बीच बड़ी संख्या में बाहर से लोग बीमारी लेकर गांव लौटे हैं। लिहाजा ग्रामीण क्षेत्रों में अवस्थित अस्पतालों को सुदृढ़ करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर फैलाये गये भ्रम से निपटने के लिए सरकार लक्षित समूह पर ध्यान दें। शिक्षकों, पीडीएस डीलरों और अन्य सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए परिवार के साथ वैक्सीन लेने के आदेश को अनिवार्य किया जाए। उन्होंने यह भी सलाह दी कि पोस्ट-कोविड प्रभाव से निपटने के लिए जगह-जगह फिजियोथेरेपी सेंटर की भी व्यवस्था जरूरी है।

संबंधित खबरें