Ranchi Two weeks of birth feast left Christmas market starts to decorate - जन्म पर्व का दो सप्ताह बाकी, सजने लगे क्रिसमस बाजार DA Image
12 दिसंबर, 2019|9:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जन्म पर्व का दो सप्ताह बाकी, सजने लगे क्रिसमस बाजार

default image

जन्म पर्व को लेकर करीब दो सप्ताह बचे हुए है। अभी से रांची के प्रमुख ईसाई बहुल इलाकों व संस्थानों के समीप क्रिसमस का माहौल बनना शुरू हो गया है। विशेषकर डॉ कामिल बुल्के पथ और सर्जना चौक के समीप सड़कों के किनारे क्रिसमस से जुड़ी सामग्रियों की बिक्री शुरू हो गई है। क्रिसमस बाजार सजने के कारण इस इलाके में धीरे-धीरे क्रिसमस के रंग में भी रंगना शुरू हो गया है। यूं तो अभी बाजारों में खरीदारों की भीड़ नही होना शुरू हुई। इस कारण से सजे बाजार में रौनक कम है। फिर भी आकर्षक क्रिसमस पर्व के सजावटी सामानों के कारण दूर से ही रंग बिरंगे सामग्री देख जा रहे है। जैसे-जैसे क्रिसमस का पर्व नजदीक आता जाएंगा। वैसे ही डॉ कामिल बुल्के पथ के अलावा बहुबाजार, चर्च रोड सहित अन्य जगहों में अन्य सामग्री भी बिक्री होने लगेगी।

क्या-क्या बाजार में है उपलब्ध

वर्तमान में सबसे ज्यादा बाजारों में सांता क्लॉज की टोपी दुकानों में रखी गई है। लाल और सफेद रंग युक्त सांता की टोपी अधिकतर दुकानों में टंगी हुई है। इसके अलावा क्रिसमस ट्री, आकर्षक झड़िया, रंगबिरंग स्टार, बैलून, छोटे बड़े क्रिसमस बेल-घंटी, छोटे आकार के सांता सहित अन्य सामग्री उपलब्ध है।

बाजार में नही दिख रहा है क्रिसमस गीतों का संग्रह

वर्तमान में यू टयूब के प्रचलन के कारण अब क्रिसमस बाजार में क्रिसमस गीतों की सीडी और गीतों का संग्रह नही दिख रहा है। धीरे-धीरे बाजार से गीतों का संग्रह गायब हो रहा है। जो मिल भी रहे है सभी पुराने रिलीज हुए गीतों का एलबम मौजूद है। वे भी चर्च संचालित बुक स्टॉल में ही उपलब्ध है। अधिकतर क्रिसमस गीतों का एलबम यू टयूब में एलबम निर्माता अपलोड कर रहे है। क्रिसमस में ज्यादा नागपुरी गीतों की मांग रहती है। इसके बाद अंग्रेजी और हिंदी गीत शामिल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ranchi Two weeks of birth feast left Christmas market starts to decorate