DA Image
22 अक्तूबर, 2020|12:14|IST

अगली स्टोरी

आज से शुरू होगा रमजान का आखिरी अशरा

default image

रमजान उल मुबारक महीने का 19वां रोजा बुधवार को रोजेदारों ने अकीदत व एहतराम के साथ मुकम्मल किया। रोजेदार रोजा रखकर अल्लाह की दी हुई नेमत का शुक्रिया अदा करने में दिनभर जुटे रहे। मुल्क में अमनो अमान और कोरोना वायरस से हिफाजत की दुआ मांगी।रोजेदारों ने पैगम्बर ए आजम हजरत मोहम्मद सला. व अहले बैत पर दरूदो सलाम का नजराना पेश किए। शाम को सबने मिलकर इफ्तार किया। महिलाएं घरों के काम के अलावा इबादत में भी मशगूल रहीं। रमजान का आखिरी अशरा गुरुवार की शाम से शुरू हो जाएगा। मस्जिद व घरों में लोग एतेकाफ पर भी बैठेंगे।

पांच रातों में तलाश करें शब ए कद्र:

मौलाना तलहा नदवी ने बताया कि शबे क़द्र कौन सी रात होगी, यह तय नहीं है। हदीस शरीफ में है की माहे रमज़ान की आखरी दस रातों में इसे तलाश करो। लिहाजा माहे रमजान की 21, 23, 25, 27 और 29वीं रातों को जाग कर पूरी रात नमाज, तिलावत कुरआन शरीफ और जिक्र व दरूद में गुजारें। जो शख्स शबे कद्र में ईमान के साथ कयाम करे तो उसके पिछले गुनाह बख्श दिए जाते हैं। शबे कद्र की पहचान यह भी है कि यह रात बिल्कुल साफ और ऐसी रोशन होती है, गोया चांद चढ़ा हुआ है, इसमें सुकून और दिल जमी होती है। ना सर्दी ज़्यादा होती है ना गर्मी। सुबह तक सितारे नहीं झड़ते। इसकी एक निशानी यह भी है कि इस की सुबह को सूरज की किरणें नहीं निकलतीं, बल्कि चौदहवीं रात की तरह सूरज साफ निकलता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ramzan 39 s last Ashara will start from today