अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री से मिलकर समस्या सुलझाएंगे पंडरा के व्यापारी

पंडरा बाजार समिति को लेकर व्यपारियों में उत्पन्न असमंजस की स्थिति को लेकर बुधवार देर शाम एक आवश्यक बैठक आयोजित की गई । पंडरा स्थित चैंबर कार्यालय में आयोजित बैठक में मार्केटिंग बोर्ड द्वारा पेनल्टी के साथ बढ़ाए गए किराया वसूली के फरमान का विरोध तो किया ही गया, उसके समाधान को लेकर एक सार्थक प्रयास करने पर भी चर्चा हुई। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि पंडरा बाजार समिति में हो रही परेशानियों को लेकर जल्द ही एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री से मिलेगा। मुख्यमंत्री से मिलकर व्यवसायी अपनी समस्या रखेंगे। उन्हें उम्मीद है कि मुख्यमंत्री व्यवसायियों की समस्या का समाधान जरूर करेंगे। रांची चैंबर अध्यक्ष शंभू गुप्ता ने बताया कि कृषि मंत्री की अध्यक्षता में आयोजित त्रिपक्षीय वार्ता में किराया चार रुपए प्रति वर्गफीट तय किया गया था। कहा गया था कि इस आशय का आदेश मार्केटिंग बोर्ड द्वारा जारी किया जाएगा। सभी व्यापारियों ने इसे सहर्ष स्वीकार भी किया था। व्यापारी तय किराया जमा करने को न सिर्फ राजी हैं बल्कि जमा करने जाते भी हैं, लेकिन बोर्ड उसे जमा नहीं ले रहा है। बैठक में व्यपारियों ने कहा कि व्यवसायी किराया जमा करने को प्रतिबद्ध हैं लेकिन आदेश निकालना बोर्ड का काम है। लेकिन बोर्ड के द्वारा आदेश नहीं निकाला जा रहा है, जिसके कारण किराया जमा करने में परेशानी हो रही है। यही नहीं, बोर्ड पूर्व के दो रुपए की जगह अब पेनल्टी के साथ 16 रुपए वसूलने की दबाव बना रहा है, जो कहीं से उचित नहीं है। यही नहीं, नया ट्रांसपोर्ट नगर बसाने को लेकर भी उहापोह की स्थिति बनी हुई है। कभी 32 एकड़ कभी 36 एकड़ तो कभी 67 एकड़ जमीन अधिग्रहित करने की बातें हो रही है। कभी मार्केट को उजाड़ने की बातें भी हो रही है। जबकि, डीपीआर महज 12 एकड़ का ही है। ऐसे में सही जानकारी के अभाव में व्यवसायियों में असमंजस की स्थित बनी हुई है कि वह करें तो क्या करें। देर शाम तक चली बैठक में हरि कनौजिया, रवि रोहतगी, नितिन सर्राफ, गणेश अग्रवाल, दीपक गुप्ता, संतोष सिंह व सरदार यशवंत सिंह समेत दर्जनों व्यापारी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pundra merchant will solve the problem with the Chief Minister