DA Image
21 अक्तूबर, 2020|8:13|IST

अगली स्टोरी

राज्य के सभी 264 प्रखंडों में शुरू होगी कोरोना की प्रारंभिक जांच : मुख्यमंत्री

default image

सरकार राज्य के सभी 264 प्रखंडों में कोरोना की जांच शुरू कराएगी। वर्तमान में रिम्स रांची, यक्षमा आरोग्यशाला इटकी, पीएमसीएच धनबाद, एमजीएम जमशेदपुर में कोरोना की जांच की जा रही है। इसके अलावा टीएमएच जमशेदपुर के अलावा सभी जिलों में ट्रूनेट मशीन से कोरोना की प्रारंभिक जांच कराई जा रही है। सरकार ने 15 हजार एंटीजेन किट की व्यवस्था भी की है। वहीं 50 ट्रूनेट मशीन और मंगाई गई है। इस आधार पर ही मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार शाम प्रोजेक्ट भवन में मीडिया को बताया कि राज्य के सभी प्रखंडों में कोरोना की जांच सुविधा उपलब्ध कराकर गति और बढ़ाई जाएगी।मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना पॉजीटिव केस की संख्या बढ़ने से लोगों को चिंतित या आश्चर्यचकित होने की जरूरत नहीं है। सरकार ने जांच का दायरा पहले की तुलना में अब काफी बढ़ा दिया है। इसलिए केस अधिक मिल रहे हैं। अब सरकार को कोरोना संक्रमण का ट्रेंड पता चल रहा है और पूरा डाटबेस तैयार हो रहा है। इससे आगे कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए बेहतर प्रबंधन किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना जांच में झारखंड सरकार अब पहले से बेहतर स्थिति में आ गई है। सरकार अपने सीमित संसाधनों का अधिकतम उपयोग करते हुए कोरोना पर नियंत्रण का प्रयास कर रही है। घर पर कोरोना मरीजों को मिलेगा परामर्शसीएम सोरेन ने बताया कि कोरोना पॉजीटिव केस बढ़ रहे हैं। संक्रमित व्यक्ति के इलाज में डॉक्टर से अधिक नर्सिंग और देखभाल की भूमिका है। इसलिए गृह मंत्रालय ने भी कोरोना के पॉजीटिव मरीजों को घर पर रहने की अनुमति दे दी है। राज्य में भी कोरोना संक्रमितों का इलाज घर पर इलाज हो सके इस आलोक में झारखंड सरकार बहुत जल्द कंट्रोल रूम शुरू करेगी। यहां विशेषज्ञों की टीम मौजूद रहेगी, जो कॉल करने वाले लोगों को गाइड करेगी। लोगों को बताया जाएगा कि क्या-क्या एहतियात बरतनी है और कौन-कौन सी दवायें लेनी या नहीं लेनी है। एहतियात से लेकर इलाज तक में मदद इस कंट्रोल रूम से मिलेगी। सीएम ने कहा कि कोरोना के इलाज के लिए कोई वैक्सीन नहीं है। इसका एकमात्र उपचार एहतियात बरतना है। कंट्रोल रूम जल्द एक्टिव होगा। चिंतित लोगों को इससे हर तरह की जानकारी मिलेगी। बिहार बॉर्डर पर सरकार की नजरझारखंड में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार के बीच यह देखा जा रहा है कि बिहार सीमा से जुड़े झारखंड के इलाकों में पॉजीटिव केस अधिक मिल रहे हैं। इनमें बिहार में संपूर्ण लॉकडाउन के बावजूद झारखंड के सीमावर्ती क्षेत्रों के मरीजों में बिहार की ट्रैवल हिस्ट्री अधिक देखी जा रही है। बिहार सरकार को भी इस दिशा में समीक्षा करनी चाहिए। झारखंड सरकार इसकी समीक्षा कर रही है। देखा जा रहा है कि बिहार में संपूर्ण तालाबंदी के बावजूद लोग झारखंड में कैसे प्रवेश कर रहे हैं। बिहार-झारखंड सीमा पर सरकार जल्द कड़े कदम उठाते हुए दिशा-निर्देश जारी करेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Preliminary investigation of Corona to begin in all 264 blocks of the state Chief Minister