DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  15 से अधिक परीक्षार्थी होने पर तीन पाली में लेनी होगी प्रैक्टिकल परीक्षा

रांची15 से अधिक परीक्षार्थी होने पर तीन पाली में लेनी होगी प्रैक्टिकल परीक्षा

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Fri, 09 Apr 2021 03:03 AM
15 से अधिक परीक्षार्थी होने पर तीन पाली में लेनी होगी प्रैक्टिकल परीक्षा

रांची। संवाददाता

झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) ने 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में कोरोना संक्रमण से सुरक्षा के लिए सभी क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक, डीईओ और सभी केंद्र के अधीक्षकों को पत्र लिखा है। जैक सचिव ने अपने पत्र में राज्य सरकार की गाइडलाइन का पालन करने की बात कहते हुए जैक की ओर से भी कुछ विशेष निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा है कि प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए 21 दिन की अवधि निर्धारित की गई, जिससे की परीक्षा सुगमता से ली जा सके। स्कूलों को विशेष शेड्यूल बनाकर परीक्षा लेने के लिए कहा गया है, ताकि परीक्षा केंद्र में ज्यादा भीड़ न हो।

प्रैक्टिकल परीक्षा दो पालियों में ली जाने है, जिसमें एक पाली में अधिकतम 15 विद्यार्थी ही शामिल हो सकते हैं। इससे अधिक परीक्षार्थियों के प्रायोगित परीक्षा लेने की अनुमति नहीं होगी। यह व्यवस्था सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए की गई है। 15 से अधिक परीक्षार्थी होने की स्थिति में स्कूलों को तीन पाली में परीक्षा लेनी होगी। इससे पहले सीबीएसई बोर्ड ने अपने स्कूलों को इसी तरह का निर्देश दिया था। हालांकि सीबीएसई स्कूलों में 16 मार्च से परीक्षा शुरू हुई है, जो कि 11 जून तक चलेगी, इसलिए सीबीएसई स्कूलों को काफी समय मिल गया है। अधिकांश स्कूल दो पाली में परीक्षा ले रहे हैं। जैक ने स्कूलों को कहा है कि निर्धारित समय में प्रैक्टिकल परीक्षा पूरी करने में परेशान आ रही है तो इसकी सूचना कारण सहित जैक को बताएं।

प्लू के लक्षण वाले को प्रवेश की अनुमति नहीं

जैक द्वारा भेजे गए दिशा-निर्देश में कहा गया है कि यदि किसी व्यक्ति में फ्लू के लक्षण दिखाई दें, तो उशे परीक्षा केंद्र में प्रवेश से रोक दिया जाएगा। पूर्णरूप से स्वस्थ होने के बाद ही केंद्र में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। जैक ने कहा है कि परीक्षा के दौरान प्रतिदिन केंद्र को सेनेटाइज कराना होगा, जिसकी जिम्मेदारी स्कूलों की होगी। केंद्र में साफ-साफाई की व्यवस्था के साथ हाथ धोने की भी व्यवस्था होनी चाहिए। सेनेटाइजर उपलब्ध रहना चाहिए। परीक्षार्थी, परीक्षक और कर्मियों को मास्क पहनना अनिवार्य है। केंद्र में आनेवाले सभी व्यक्ति की थर्मल स्कैनिंग अवश्य रूप से करना है। उल्लेखनीय है कि जैक की प्रायोगित परीक्षा छह अप्रैल से शुरू हो चुकी है, जो 27 अप्रैल तक चलेगी। बोर्ड की परीक्षाएं चार मई से शुरू होंगी।

कोरोना संक्रमित परीक्षार्थी बाद में देंगे परीक्षा

जैक ने कहा है कि जो बच्चे फिलहाल कोरोना संक्रमित हैं उन्हें घबराने की आवश्यकता नहीं है। 14 दिन बाद दूसरी बार बच्चों को टेस्ट कराना है। यदि वे परीक्षा अवधि के दौरान निगेटिव हो जाते हैं, तो परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। जैक सचिव महिप कुमार सिंह ने कहा कि यदि कुछ बच्चे कोरोना के कारण में शामिल नहीं हो सकते हैं, तो ऐसी स्थिति में वे स्कूल को आवेदन दे सकते हैं। स्कूलों से प्राप्त आवेदन के आधार पर जैक की परीक्षा समिति इसपर सकारात्मक फैसला लेगी।

26 से होगा मॉक टेस्ट

प्रैक्टिकल परीक्षा खत्म होने के बाद स्कूल मॉक टेस्ट का आयोजन करेंगे। 26 से 30 अप्रैल त मॉक टेस्ट लिया जाएगा। स्कूलों को भेजे गए नए सिलेबस और बदले हुए पैटर्न के आधार पर जैक द्वारा प्रश्न भेजे जाएंगे, जिसके आधार पर मॉक टेस्ट लिया जाएगा। मॉडल सेट से इसकी तैयारी स्कूलों को कराने का निर्देश पहले दिया गया था।

संबंधित खबरें