DA Image
25 फरवरी, 2020|1:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए पॉलिसी बनेगी

default image

झारखंड कौशल विकास मिशन सोसाइटी के निदेशक कृपा नंदन झा ने कहा है कि प्रशिक्षण केन्द्रों में चलाए जा रहे बैचों के ऑनलाइन मंजूरी प्रक्रिया को सुगम बनाएं। प्रशिक्षण कार्यक्रम की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण कराएं। विविध सेक्टर स्किल्स काउंसिल्स के माध्यम से प्रशिक्षण के लिए संपर्क करें। ज्यादा संख्या में प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए सेंट्यूरियन विश्वविद्यालय और भारतीय स्किल यूनिवर्सिटी से भी अध्ययन कराने की संभावना को देखें। प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए पॉलिसी बनाएं। पॉलिसी बनाने के लिए एक समिति का गठन करें।

मिशन निदेशक शुक्रवार को श्रम भवन में 2020 में कौशल विकास कार्यक्रम के संवर्द्धन के उद्देश्य से समीक्षा बैठक कर रहे थे। बैठक में प्रशिक्षण सेवा प्रदाता संस्थाओं के प्रतिनिधियों, कार्यक्रम प्रबंधन इकाई के प्रतिनिधियों एवं कौशल विकास मिशन सोसाईटी के अधिकारियों ने भाग लिया।

बैठक में प्रशिक्षण केन्द्रों में चलाए जा रहे सत्रों के किसी कारण समय पर पूर्ण नहीं होने पर बैच के अवधि विस्तार पर चर्चा हुई। निदेशक ने कहा कि केवल आवश्यक परिस्थितियों अवधि विस्तार की अनुमति मिलेगी। प्रकशिक्षक संस्थाएं ऐसी स्थिति में अतिरिक्त कक्षाएं संचालित कर पाठ्यक्रम को पूरा करें। उन्होंने प्रशिक्षकों एवं प्रशिक्षुओं के लिए बायोमैट्रिक उपस्थिति को अनिवार्य रूप से लागू करने का निर्देश दिया। कृपानंदन झा ने कौशल प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों के साथ-साथ सॉफ्ट स्किल्स पाठ्यक्रम विकसित करने और इसके सत्यापन को अनिवार्य बनाने पर बल दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Policy will be made for training of trainers